ब्रह्मर्षि  

  • ब्राह्मण कुलों के ऋषि, जिनके गौत्र चले। जो ब्रह्मज्ञानी थे।
  • जिनका वास ब्रह्मलोक में हुआ।
  • वेद के मन्त्रदृष्टा ऋषि कहलाते थे।
  • धर्म का साक्षात्कार कराने वाले भी ऋषि कहे गये.....ऋषय:साक्षात्कृतधर्माण।
  • वे प्रेरणावान ओजस्विता, ऋजुता से परिपूर्ण कवि थे। उनकी पूर्व में संख्या सात थी। इससे सप्तऋषि कहे गये।
  • शतपथ ब्राह्मण में इनके नाम आते हैं।
  • महाभारत में इसका स्थान-स्थान पर प्रचुर प्रयोग मिलता है। नामों में भी भिन्नता आ गई।
  • विष्णुपुराण ने भी कुछ नाम जोड़ दिये।
  • आकाश में सप्तऋषियों का एक तारामण्डल माना गया है। जो ध्रुव की परिक्रमा करता है।
एकल ब्रह्मर्षि निम्न प्रकार हैं-

अर्वावसु, कश्यप, दधीचि, भारद्वाज, भृगु, कृप, अष्टावक्र, गौतम, दमन, मनंकनक, मार्कण्डेय, अत्रि, च्यवन, देवशर्मण, रुचीक, लिखित, शुक्र, और्व, जाजलि, नारद, लोमश, वशिष्ठ, व्यास, पुलस्त्य, विश्वामित्र, वैराम्पाथन।

शतपथ ब्राह्मण के सप्तऋर्षि-

गौतम, भारद्वाज, विश्वामित्र, जमदग्नि, वशिष्ठ, कश्यप और अत्रि।

महाभारत के सप्तऋर्षि-

मरीचि, अत्रि, अंगिरा, पुलह, पुलस्त्य, ऋतु और वशिष्ठ। वायु पुराण इस सूची में भृगु का नाम जोड़कर इनकी संख्या आठ कर देता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत, आदिपर्व, अध्याय 107 आदि।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ब्रह्मर्षि&oldid=389157" से लिया गया