ब्रह्मोत्सव  

ब्रज में होली समाप्त होते ही चैत्र शुक्ल पक्ष की द्वितीया से वृन्दावन में रंग जी के मन्दिर का प्रसिद्ध रथ मेला प्रारम्भ हो जाता है। प्रतिदिन विभिन्न सोने–चाँदी के वाहनों पर रंगजी की सवारी निकलती है। चैत्र शुक्ल की नवमी रथ का मेला तथा दसवीं को भव्य आतिशबाज़ी होती है। यह बहुत बड़ा मेला होता है।


इनके अलावा महावन का रमणरेती मेला, कारब का रामलीला मेला, भादों की पूर्णिमा को चौमुहाँ का ब्रह्माजी को मेला, नगला चन्द्रभान (फ़रह) में पंडित दीनदयाल उपाध्याय मेला, मथुरा में बाबा जयगुरुदेव का मेला, चैत्र पूर्णिमा का मेला, मंसादेवी का मेला आदि मेलों और उत्सव के अतिरिक्त जनपद में और भी मेले उत्सवों का आयोजन होता है जिससे वर्ष भर ताजगी उल्लास का वातावरण बना रहता है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ब्रह्मोत्सव&oldid=193412" से लिया गया