भद्रा सप्तमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • जब शुक्ल सप्तमी को हस्त नक्षत्र हो तो वह तिथि भद्रा कहलाती है।
  • तिथिव्रत; देवता सूर्य का पूजन करना चाहिए।
  • कर्ता को चतुर्थी से सप्तमी की तिथियों तक क्रम से एकभक्त, नक्त, अयाचित एवं उपवास की विधि करनी पड़ती है।
  • प्रतिमा को घी, दूध, ईख के रस से स्नान कराया जाता है, उपचार किये जाते हैं।
  • विभिन्न दिशाओं में विभिन्न प्रकार के बहुमूल्य प्रस्तर प्रतिमा के पास सजाये जाते हैं।
  • ऐसी मान्यता है कि कर्ता सूर्यलोक में जाकर ब्रह्मालोक को चला जाता है।[1]; [2]; [3]; [4]

 


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु (व्रत0 138-141
  2. हेमाद्रि (व्रत0 1, 671-673, भविष्यपुराण से उद्धरण
  3. हेमाद्रि (काल, 625
  4. पुरुषार्थचिन्तामणि (105

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भद्रा_सप्तमी&oldid=189113" से लिया गया