भीम द्वादशी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह सर्वप्रथम वासुदेव के द्वारा पाण्डव भीम को बतायी गयी थी, अतः इसका यह नाम पड़ा है।
  • यह पहले कल्याणिनी के नाम से विख्यात थी।
  • मत्स्य पुराण[1] में विस्तृत विवेचन है।[2], [3]
  • माघ शुक्ल दशमी पर शरीर में घी लगाना और विष्णु पूजा (नमो नारायण) करना चाहिए।
  • विभिन्न नामों (कृष्ण, दामोदर आदि) से विष्णु के विभिन्न अंगों की पूजा करना चाहिए।
  • गरुड़ पूजा; शिव, गणेश की पूजा करनी चाहिए।
  • एकादशी को पूर्ण उपवास करना चाहिए।
  • द्वादशी को नदी में स्नान करना चाहिए।
  • घर के समक्ष मण्डप का निर्माण करना चाहिए।
  • तोरण से एक जलपूर्ण घट लटकाना तथा उसकी पेंदी में एक छेद करके रात्रि भर अपने हाथ पर उसे टपकाना करना चाहिए।
  • ऋग्वेद में पारंगत चार पुरोहितों द्वारा होम करना चाहिए।
  • चार यजुर्वेदों द्वारा रुद्र जप, 4 सामवेदियों द्वारा सामगान करना चाहिए।
  • इन बारह पुरोहितों को अंगूठियाँ, वस्त्र आदि के द्वारा सम्मान देना चाहिए।
  • आगे की तिथि (त्रयोदशी) पर 13 गायों का दान करना चाहिए।
  • पुरोहितों के प्रस्थान के उपरान्त 'केशव प्रसन्न हों' विष्णु, शिव के तथा शिव विष्णु के हृदय हैं' का कथन करना चाहिए।
  • इतिहास एवं पुराण सुनना[4] चाहिए।
  • माघ शुक्ल द्वादशी पर; यह विदर्भ के राजा एवं दमयन्ती के पिता भीम द्वारा पुलस्त्य को बताया गया था।
  • समान ही व्यवस्थाएँ करना चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि कर्ता सभी पापों से मुक्त हो जाता है।
  • यह व्रत वाजपेय, अतिरात्र आदि से श्रेष्ठ है।[5]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मत्स्य पुराण (69|19-65
  2. कृत्यकल्पतरु (व्रत0 354-359
  3. हेमाद्रि (व्रत0 1, 1044-1049, पद्मपुराण से उद्धरण
  4. गरुड़ पुराण (1|127
  5. हेमाद्रि (व्रत0 1, 1049-1053, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भीम_द्वादशी&oldid=188277" से लिया गया