मंगल चण्डिकापूजा  

Disamb2.jpg मंगल एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- मंगल (बहुविकल्पी)
  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • वर्षक्रियाकौमुदी[1] में इस व्रत को करने की विस्तृत विधि दी हुई है।
  • इसे 'ललितकान्ता' भी कहा गया है।
  • उसकी पूजा के लिए मन्त्र (ललित गायत्री) यह है–

'नारायण्यै विद्महे त्वां चण्डिकायै तु धीमहि।
तन्नो ललितकान्तेति ततः पश्चात्प्रचोदयात्।';

  • अष्टमी एवं नवमी पर पूजा की जाती है।
  • उसकी पूजा किसी वस्त्र खण्ड पर या प्रतिमा के रूप में या घट पर की जा सकती है।
  • ऐसी मान्यता है कि मंगल की पूजा करने पर कामनाओं की पूर्ति होती है।[2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वर्षक्रियाकौमुदी (552-558
  2. तिथितत्त्व (41

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मंगल_चण्डिकापूजा&oldid=189161" से लिया गया