मन्वन्तर  

  • सृष्टि की आयु का अनुमान लगाने के लिये चार युगों सत युग, त्रेता युग, द्वापर युग और कलि युग का एक 'महायुग' माना जाता है ।
  • 71 महायुग मिलकर एक 'मन्वंतर' बनाता है।
  • महायुग की अवधि 43 लाख 20 हज़ार वर्ष मानी गई है।
  • 14 मन्वंतरों का एक 'कल्प' होता है।
  • प्रत्येक मन्वंतर में सृष्टि का एक मनु होता है और उसी के नाम पर उस मन्वंतर का नाम पड़ता है।
  • मानवीय गणना के अनुसार एक मन्वंतर में तीस करोड़ ,अड़सठ लाख , बीस हज़ार वर्ष होते हैं ।
  • पुराणों में चौदह मन्वंतर इस प्रकार हैं-
  1. स्वायंभुव ,
  2. स्वारोचिष,
  3. उत्तम ,
  4. तामस,
  5. रैवत,
  6. चाक्षुष,
  7. वैवस्वत,
  8. अर्क सावर्णि,
  9. दक्ष सावर्णि,
  10. ब्रह्म सावर्णि,
  11. धर्म सावर्णि,
  12. रुद्र सावर्णि,
  13. रौच्य,
  14. भौत्य।
  • इनमें से चाक्षुस तक के मन्वंतर बीत चुके हैं ।
  • वैवस्वत इस समय चल रहा है । संकल्प आदि में इसी का नामोच्चार होता है ।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मन्वन्तर&oldid=402777" से लिया गया