मन्वादि  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • मन्वादि में 14 मन्वन्तर होते हैं।
  • चार युगों से एक महायुग होता है, जिसकी अवधि 43,20,000 वर्षों की होती है।
  • एक सहस्र महायुग एक कल्प के बराबर होते हैं।
  • कल्प को ब्रह्मा का एक दिन कहा जाता है।
  • ब्रह्मा की रात्रि भी एक कल्प के बराबर होती है।
  • एक कल्प में 14 मन्वन्तर होते हैं, प्रत्येक मन्वन्तर में 71 महायुग से थोड़ा अधिक होता है।
  • विष्णु पुराण[1], मत्स्य पुराण[2], ब्रह्म पुराण[3], नारद पुराण[4] इन पुराणों में उन तिथियों का उल्लेख है, जिसमें प्रत्येक मन्वन्तर का आरम्भ हुआ, इसी से उन्हें मन्वादि तिथि कहा जाता है।
  • ये तिथियाँ पवित्र हैं और उनके लिए श्राद्ध किया जाता है।
  • विष्णुधर्मोत्तपुराशण[5] जहाँ 14 मन्वन्तरों के नाम एवं विवरण दिये गये हैं।


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णु पुराण, (3|2|50-51
  2. मत्स्य पुराण, (144|102-3, 145|1
  3. ब्रह्म पुराण, (अध्याय 5
  4. नारद पुराण, (1|56|149-152
  5. विष्णुधर्मोत्तपुराशण, (1|176-189), और देखिये इस ग्रन्थ का (मूल), जिल्द 4, पृ॰ 375

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मन्वादि&oldid=188757" से लिया गया