मलेशिया  

मलेशिया का ध्वज

मलेशिया दक्षिण-पूर्वी एशिया में स्थित एक संघ है। यह दक्षिण चीन सागर द्वारा दो भागों में विभाजित है। मलेशिया ऐसा देश है, जो पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर खींचने की पूरा क्षमता रखता है। यह एक ऐसा देश है, जहाँ बहुत सारे उत्सव वर्ष के बारह महीने चलते रहते हैं। मलेशिया के लोगों की ऊर्जा और उत्साह ही वहाँ होने वाले उत्सवों की जान है, जो पर्यटकों को अपने देश बुलाती है। मलय प्रायद्वीप पर स्थित क्वालालंपुर मलेशिया की राजधानी है। हाल ही में संघीय राजधानी को विशेषतौर से प्रशासन के लिए बनाए गए नए शहर 'पुत्रजया' में स्थानांतरित कर दिया गया है। यह तैरह राज्यों से बनाया गया एक एक संघीय राज्य है।

स्थापना

16 सितम्बर, 1963 ई. को मलाया प्रायद्वीप, सिंगापुर, साबाह एवं सारावाक नामक ब्रिटिश उपनिवेशों के विलयन के फलस्वरूप मलेशिया गणतंत्र की स्थापना हुई थी। 9 अगस्त, 1965 ई. को आपसी समझौते द्वारा सिंगापुर मलेशिया से अलग हो गया एवं एक स्वतंत्र राष्ट्र बन गया। इस देश का संविधान भूतपूर्व मलयम संघ के संविधान पर ही आधारित है। फिर भी साबाह और सारावाक की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा गया है। यहाँ की राजभाषा 'मलय' तथा राजधानी 'क्वालालंपुर' है।

क्षेत्रफल

मलेशिया का क्षेत्रफल लगभग 1,30,224 वर्ग मील है। देश की सुरक्षा के लिये सुव्यवस्थित स्थल, वायु एवं जल सेनाएँ हैं। क्वालालंपुर के निकट सुंगेई बेसी नामक स्थान पर संघीय सैनिक महाविद्यालय है, जहाँ सशस्त्र सेनाओं के अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाता है।

दो भाग

मलेशिया दो हिस्सों में बँटा हुआ है। 'ईस्ट मलेशिया' और 'वेस्ट मलेशिया'। पूरे देश में कुल 13 राज्य और 3 संघीय प्रदेश हैं। वेस्ट मलेशिया यानी 'पेनिनसुला ऑफ मलेशिया' में ग्यारह और ईस्ट मलेशिया, जिसे 'बोरनिओ मलेशियन बोरनिओ' भी कहते हैं, दो राज्य वहाँ स्थित हैं। इस ख़ूबसूरत देश को 'मलेशिया' नाम वर्ष 1963 में मिला था। मलेशिया और भारत में एक समानता यह है कि दोनों कॉमनवेल्थ नेशन हैं।

पर्यटन

एक तरह से मलेशिया में प्रकृति को क़रीब से महसूस किया जा सकता है। मलेशिया में सांस्कृतिक, भौगोलिक और जैवविविधता को देखा और महसूसा जा सकता है। 'मलय' शब्द का संस्कृत में अर्थ होता है- 'पहाड़ों की भूमि'। मलेशिया घूमने के हिसाब से इसलिए बेहतर देश है, क्योंकि यहाँ साधारण जीवन भी देखने को मिल जाता है और खूब चमकते-दमकते शहर भी दिखाई देते हैं। यह देश विविधता से भरा हुआ है, जहाँ जीवन अपने अलग-अलग रंगों में धड़कता दिखाई देता है।[1] यहाँ के कुछ पर्यटन स्थल निम्नलिखित हैं-

  1. जेंटिंग पहाड़ी - इसे 'लॉस वेगास ऑफ़ मलेशिया' और 'सिटी ऑफ़ इंटरटेनमेंट' कहा जाता है।
  2. बाटु गुफ़ाएँ - हिन्दुओं के लिए यह जगह पवित्र मानी जाती है। यह जगह थाईपुसम त्योहार के लिए प्रसिद्ध है।
  3. पेट्रोनॉस ट्विन टॉवर - 88 मंजिला यह इमारत वर्ष 2004 तक दुनिया की सबसे ऊँची इमारत थी और आज भी दुनिया की सबसे ऊँची जुड़वाँ मीनार है।
  4. पेनाँग - यह एक धार्मिक आकर्षण का स्थल है। यहाँ कई संग्रहालय और गैलरी देखने लायक़ हैं।
  5. मलक्का - यह मलेशिया का सबसे प्राचीन ऐतिहासिक शहर है। यहाँ चीनी, पुर्तग़ाली, डच और ब्रिटिश प्रभावों का दिलचस्प मिश्रण देखने को मिलता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. एक ख़ूबसूरत देश- मलेशिया (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 06 जून, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मलेशिया&oldid=511132" से लिया गया