महत्तम व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह भाद्रपद शुक्ल की तिथि पड़वा को होता है।
  • इसमें स्वर्ण या रजत की शिव मूर्ति की पूजा की जाती है।
  • शिव की तीन आँखें, पाँच मुख होते हैं।
  • मूर्ति को एक घड़े के ऊपर रख कर पंचामृत से स्नान कराया जाता है।
  • उसके बाद पुष्प आदि से पूजा की जाती है।
  • इस पूजा में कर्ता मौन व्रत रखता है।
  • महत्तमव्रत में 16 फलों का अर्पण किया जाता है।
  • महत्तम व्रत में अन्त में गौ दान किया जाता है।
  • यह व्रत दीर्घायु, राज्य की प्राप्ति आदि के लिए किया जाता है।[1]
  • निर्णयामृत ने भ्रामक ढंग से इसे मौनव्रत कहा है।


अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. स्मृतिकौस्तुभ (पृ0 201

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=महत्तम_व्रत&oldid=189192" से लिया गया