महा नवमी  

महा नवमी
माँ सिद्धिदात्री
विवरण 'नवरात्र' के नौ दिनों में से नौवें दिन को 'महानवमी' कहा जाता है। इस दिन देवी दुर्गा के नवें स्वरूप माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है और कन्याओं को भोजन कराया जाता है।
संबंधित देवी सिद्धिदात्री
अनुयायी हिन्दू तथा प्रवासी भारतीय।
धार्मिक मान्यता माँ सिद्धिदात्री सिद्धियाँ प्रदान करने वाली हैं। इनकी पूजा से भक्त की सभी इच्छाएँ पूर्ण होती हैं।
विशेष माना जाता है कि यदि माँ सिद्धिदात्री अपने भक्त पर प्रसन्न हो जायें तो उसे 26 वरदान प्राप्त होते हैं।
अन्य जानकारी 'महानवमी' के साथ ही आज के दिन भारत के विभिन्न हिस्सों में भगवान राम का जन्म दिवस यानि 'रामनवमी' भी मनाई जाती है। भगवान राम ने आज ही के दिन अयोध्या के राजा दशरथ के घर जन्म लिया था।

महानवमी हिन्दू धर्म में बहुत ही महत्त्वपूर्ण मानी जाती है। आश्विन माह में शुक्ल पक्ष की नवमी या कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की नवमी या फिर मार्गशीर्ष माह में शुक्ल पक्ष की नवमी को 'महानवमी' कहा जाता है। नौ दिनों तक चलने वाले 'नवरात्र' में नवमी की तिथि 'महानवमी' कहलाती है। इस दिन देवी दुर्गा के नौवें स्वरूप माँ सिद्धिदात्री की पूजा विशेष रूप से की जाती है। यह दुर्गापूजा उत्सव ही है।[1] महानवमी के दिन भक्तजन कुमारी कन्याओं को अपने घर बुलाकर भोजन कराते हैं तथा दान आदि देकर पुण्य लाभ अर्जित करते हैं।

माँ सिद्धिदात्री

हिन्दू धर्म में विशेष रूप से पूजनीय और नौ दिनों तक चलने वाले 'नवरात्र' का समापन महानवमी पर होता है। नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्र के व्रत में हर तरफ़ भक्तिमय माहौल रहता है। नवमी के दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा होती है। माँ दुर्गा अपने नौवें स्वरूप में सिद्धिदात्री के नाम से जानी जाती हैं। आदि शक्ति भगवती का नवम रूप सिद्धिदात्री है, जिनकी चार भुजाएँ हैं। उनका आसन कमल है। दाहिनी ओर नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा, बाई ओर से नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमल पुष्प है। माँ सिद्धिदात्री सुर और असुर दोनों के लिए पूजनीय हैं। जैसा कि माँ के नाम से ही प्रतीत होता है, माँ सभी इच्छाओं और मांगों को पूरा करती हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी का यह रूप यदि भक्तों पर प्रसन्न हो जाता है, तो उसे 26 वरदान मिलते हैं। हिमालय के नंदा पर्वत पर सिद्धिदात्री का पवित्र तीर्थ स्थान है।[2]

कन्या पूजन

'नवरात्र' के अंतिम दिन महानवमी पर कन्या पूजन का विशेष विधान है। इस दिन नौ कन्याओं को विधिवत तरीके से भोजन कराया जाता है और उन्हें दक्षिणा देकर आशिर्वाद मांगा जाता है। इनके पूजन से दु:ख और दरिद्रता समाप्त हो जाती है। कन्या पूजन में कन्या की आयु के अनुसार फल प्राप्त होते हैं, जैसे-

  1. 'त्रिमूर्ति' - तीन वर्ष की कन्या 'त्रिमूर्ति' मानी जाती है। इनके पूजन से धन-धान्य का आगमन और संपूर्ण परिवार का कल्याण होता है।
  2. 'कल्याणी' - चार वर्ष की कन्या 'कल्याणी' के नाम से संबोधित की जाती है। 'कल्याणी' की पूजा से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।
  3. 'रोहिणी' - पाँच वर्ष की कन्या 'रोहिणी' कही जाती है। इसके पूजन से व्यक्ति रोग-मुक्त होता है।
  4. 'कालिका' - छ:वर्ष की कन्या 'कालिका' की अर्चना से विद्या, विजय, राजयोग की प्राप्ति होती है।
  5. 'चण्डिका' - सात वर्ष की कन्या 'चण्डिका' के पूजन से ऐश्वर्य मिलता है।
  6. 'शाम्भवी' - आठ वर्ष की कन्या 'शाम्भवी' की पूजा से वाद-विवाद में विजय तथा लोकप्रियता प्राप्त होती है।
  7. 'दुर्गा' - नौ वर्ष की कन्या 'दुर्गा' की अर्चना से शत्रु का संहार होता है तथा असाध्य कार्य सिद्ध होते हैं।
  8. 'सुभद्रा' - दस वर्ष की कन्या 'सुभद्रा' कही जाती है। 'सुभद्रा' के पूजन से मनोरथ पूर्ण होता है तथा लोक-परलोक में सब सुख प्राप्त होते हैं।[2]

पूजन विधि

वैसे तो 'महानवमी' पर माँ सिद्धिदात्री की पूजा पूरे विधि-विधान से करनी चाहिए, लेकिन अगर ऐसा संभव ना हो सके तो कुछ आसान तरीकों से माँ को प्रसन्न किया जा सकता है। सिद्धिदात्री की पूजा करने के लिए नवान्न का प्रसाद, नवरस युक्त भोजन तथा नौ प्रकार के फल-फूल आदि का अर्पण करना चाहिए। इस प्रकार 'नवरात्र' का समापन करने से इस संसार में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

मंत्र

देवी की स्तुति के लिए निम्न मंत्र कहा गया है-

या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेणसंस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

ध्यान मंत्र

वन्दे वंछितमनरोरार्थेचन्द्रार्घकृतशेखराम्।
कमलस्थिताचतुर्भुजासिद्धि यशस्वनीम्॥
स्वर्णावर्णानिर्वाणचक्रस्थितानवम् दुर्गा त्रिनेत्राम।
शंख, चक्र, गदा पदमधरा सिद्धिदात्रीभजेम्॥
पटाम्बरपरिधानांसुहास्यानानालंकारभूषिताम्।
मंजीर, हार केयूर, किंकिणिरत्नकुण्डलमण्डिताम्॥
प्रफुल्ल वदनापल्लवाधराकांत कपोलापीनपयोधराम्।
कमनीयांलावण्यांक्षीणकटिंनिम्ननाभिंनितम्बनीम्॥

स्तोत्र मंत्र

कंचनाभा शंखचक्रगदामधरामुकुटोज्वलां।
स्मेरमुखीशिवपत्नीसिद्धिदात्रीनमोअस्तुते॥
पटाम्बरपरिधानांनानालंकारभूषितां।
नलिनस्थितांपलिनाक्षींसिद्धिदात्रीनमोअस्तुते॥
परमानंदमयीदेवि परब्रह्म परमात्मा।
परमशक्ति,परमभक्तिसिद्धिदात्रीनमोअस्तुते॥
विश्वकतींविश्वभर्तीविश्वहतींविश्वप्रीता।
विश्वíचताविश्वतीतासिद्धिदात्रीनमोअस्तुते॥
भुक्तिमुक्तिकारणीभक्तकष्टनिवारिणी।
भवसागर तारिणी सिद्धिदात्रीनमोअस्तुते।।
धर्माथकामप्रदायिनीमहामोह विनाशिनी।
मोक्षदायिनीसिद्धिदात्रीसिद्धिदात्रीनमोअस्तुते॥

कवच मंत्र

ओंकार: पातुशीर्षोमां, ऐं बीजंमां हृदयो।
हीं बीजंसदापातुनभोगृहोचपादयो॥
ललाट कर्णोश्रींबीजंपातुक्लींबीजंमां नेत्र घ्राणो।
कपोल चिबुकोहसौ:पातुजगत्प्रसूत्यैमां सर्व वदनो॥

भगवती सिद्धिदात्री का ध्यान, स्तोत्र, कवच का पाठ करने से निर्वाण चक्र जाग्रत होता है, जिससे ऋद्धि, सिद्धि की प्राप्ति होती है। कार्यों में चले आ रहे व्यवधान समाप्त हो जाते हैं।[2] कामनाओं की पूर्ति होती है। इस व्रत को करने से कर्ता देवी लोक को जाता है।[3]

रामनवमी

'महानवमी' के साथ ही आज के दिन भारत के विभिन्न हिस्सों में भगवान राम का जन्म दिवस यानि 'रामनवमी' भी मनाई जाती है। भगवान राम ने आज ही के दिन अयोध्या के राजा दशरथ के घर जन्म लिया था। सदाचार के प्रतीक मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्म शुक्ल पक्ष की नवमी को हुआ था। भगवान राम को उनके सुख-समृद्धि पूर्ण व सदाचार युक्‍त शासन के लिए याद किया जाता है। उन्‍हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है, जो पृथ्वी पर राक्षसों के राजा रावण से युद्ध लड़ने के लिए आए थे। आज के दिन अयोध्या में इस पर्व की धूम देखते ही बनती है।

श्रीकृष्ण द्वारा माँ की स्तुति

'नवरात्रि' के पर्व पर श्रद्धा और प्रेमपूर्वक महाशक्ति भगवती के नौ रूपों की उपासना करने से यह निर्गुण स्वरूपा देवी पृथ्वी के सारे जीवों पर दया करके स्वयं ही सगुणभाव को प्राप्त होकर ब्रह्मा, विष्णु और महेश रूप से उत्पत्ति, पालन और संहार कार्य करती हैं। ऐसी नवदुर्गा के बारे में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण माता की स्तुति में कहते हैं-

त्वमेव सर्वजननी मूलप्रकृतिरीश्वरी।
त्वमेवाद्या सृष्टिविधौ स्वेच्छया त्रिगुणात्मिका॥
कार्यार्थे सगुणा त्वं च वस्तुतो निर्गुणा स्वयम्‌।
परब्रह्मास्वरूपा त्वं सत्या नित्या सनातनी॥
तेजःस्वरूपा परमा भक्तानुग्रहविग्रहा।
सर्वस्वरूपा सर्वेशा सर्वाधारा परात्पर॥
सर्वबीजस्वरूपा च सर्वपूज्या निराश्रया।
सर्वज्ञा सर्वतोभद्रा सर्वमंगलमंगला॥

अर्थात "तुम्हीं विश्वजननी मूल प्रकृति ईश्वरी हो, तुम्हीं सृष्टि की उत्पत्ति के समय आद्याशक्ति के रूप में विराजमान रहती हो और स्वेच्छा से त्रिगुणात्मिका बन जाती हो। यद्यपि वस्तुतः तुम स्वयं निर्गुण हो तथापि प्रयोजनवश सगुण हो जाती हो। तुम परब्रह्मस्वरूप, सत्य, नित्य एवं सनातनी हो। परम तेजस्वरूप और भक्तों पर अनुग्रह करने हेतु शरीर धारण करती हो। तुम सर्वस्वरूपा, सर्वेश्वरी, सर्वाधार एवं परात्पर हो। तुम सर्वाबीजस्वरूप, सर्वपूज्या एवं आश्रयरहित हो। तुम सर्वज्ञ, सर्वप्रकार से मंगल करने वाली एवं सर्व मंगलों की भी मंगल हो।"[4]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु (राजधर्म।, पृष्ठ 191-195), राजनीतिप्रकाश (पृष्ठ 439-444); हेमाद्रि (व्रत। 1, 903-920); निर्णयसिन्धु (161-185); कृत्यरत्नाकर (349-364);
  2. 2.0 2.1 2.2 श्रीदुर्गा महानवमी, नवरात्र का अंतिम दिन (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 13 अक्टूबर, 2013।
  3. कृत्यकल्पतरु (व्रत॰ 296-299); हेमाद्रि (व्रत॰ 1, 937-939, यहाँ दुर्गानवमी नाम है); पुरुषार्थचिन्तामणि (134); हेमाद्रि (काल, 107); देखिए गरुड़ पुराण (1|133|3-18 तथा अध्याय 134); कालिकापुराण (अध्याय 62);
  4. श्रीकृष्ण के मुख से माता की स्तुति (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 13 अक्टूबर, 2013।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=महा_नवमी&oldid=608462" से लिया गया