माघ सप्तमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • इस व्रत को माघ शुक्ल सप्तमी पर किया जाता है।
  • अरुणोदय के समय किसी नदी या बहते हुए जल में अपने सर पर बदर वृक्ष एवं अर्क पौधे की सात-सात पत्तियाँ रख कर स्नान करना चाहिए।
  • सात बदर फलों, सात अर्क दलों, चावल, तिल, दूर्वा, अक्षतों एवं चन्दन के साथ मिश्रित जल से सूर्य को अर्ध्य देना चाहिये।
  • सप्तमी को देवी समझ कर सूर्य को प्रणाम करना चाहिए।
  • कुछ लोगों के मत से यह स्नान तथा 'माघ स्नान' अलग-अलग नहीं है, किन्तु कुछ लोग दोनों को दो मानते हैं।[1]; [2]; [3]; [4]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यरत्नाकर (509
  2. वर्षक्रियाकौमुदी (499-502
  3. कृत्यतत्त्व (459
  4. राजमार्तण्ड (ए0 बी0 आर0 आई0, जिल्द 36, पृ0 332

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=माघ_सप्तमी&oldid=188552" से लिया गया