मासोपनास व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • 'सभी व्रतों में यह सर्वोत्तम व्रत है।
  • यह एक अति प्राचीन व्रत है।
  • ई0 पू. दूसरी शती में रानी नायनिका (नागनिका) ने इसे सम्पादित किया था।[1]
  • इसका वर्णन अग्नि पुराण[2]; गरुड़ पुराण[3], पद्म पुराण[4] में किया गया है।
  • अग्नि पुराण अति संक्षिप्त है, उसी को अति संक्षिप्त रूप में यहाँ पर दिया जा रहा है।
  • कर्ता को सभी वैष्णव व्रत (यथा–द्वादशी) कर लेने चाहिए, गुरु का आदेश ले लेना चाहिए; अपनी शक्ति को देखकर आश्विन शुक्ल एकादशी से आरम्भ कर उसे 30 दिनों तक ले जाने का संकल्प करना चाहिए।
  • किसी वानप्रस्थ व्यक्ति या यति या विधवा द्वारा यह सम्पादित होना चाहिए।
  • पुष्पों आदि से प्रतिदिन तीन बार विष्णु पूजा होनी चाहिए।
  • विष्णु भगवान की प्रशस्ति के गान गाये जाने चाहिए।
  • विष्णु का ध्यान करना चाहिए।
  • व्यर्थ की बातों का त्याग होना चाहिए।
  • धन की इच्छा का त्याग करना चाहिए।
  • जो नियमों का पालन नहीं करते उन्हें नहीं छूना चाहिए, मन्दिर में 30 दिनों तक रहना चाहिए।
  • 30 दिनों के उपरान्त 12वें दिन ब्रह्मभोज देना चाहिए, दक्षिणा देनी चाहिए तथा 13 ब्राह्मणों को आमंत्रित कर पारण करना चाहिए।
  • वस्त्रों का जोड़ा, आसन, पात्र, छत्र, खड़ाऊँ, दान रूप में दिये जाने चाहिए।
  • एक पलंग पर विष्णु की स्वर्ण-प्रतिमा का पूजन होना चाहिए।
  • अपनी स्वयं की प्रतिमा को वस्त्र आदि देना चाहिए, पलंग गुरु को दे देनी चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि वह स्थान जहाँ पर कर्ता ठहरता है पवित्र हो जाता है, वह अपने एवं अपने परिवार के लोगों को स्वर्गलोक ले जाता है।
  • यदि कर्ता बीच में मूर्छित हो जाय तो उसे दूध, घी, एवं फल का रस देना चाहिए।
  • ब्राह्मणों की सम्मति से ऐसा करने से व्रत खण्डित नहीं होता है।[5]

 


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ए0 एस0 डब्ल्यू0 आई0, जिल्द 5, पृ0 60
  2. अग्नि पुराण (204|1-18
  3. गरुड़ पुराण (1|122|1-7
  4. पद्म पुराण (6|121|15-54
  5. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 776-783, विष्णुरहस्य से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मासोपनास_व्रत&oldid=322966" से लिया गया