मिज़ो भाषा  

मिज़ो भाषा भारत के मिज़ोरम राज्य की प्रमुख भाषा है। इस भाषा को 'लुशाई भाषा' के नाम से भी जाना जाता है। मिज़ो भाषा, तिब्बती-बर्मन की कुकी-चिन शाखा के अन्तर्गत रखी जाती है। इसके कई समुदायों की विभिन्न बोलियों मे मिज़ो सबसे अधिक प्रचलन मे थी, जो कालान्तर मे एक सर्वमान्य भाषा बनकर उभरी।

  • मिज़ो का शाब्दिक अर्थ है- 'उंची भूमि के वासी', (मि = "लोग", जो़ = "उंची भूमि")।
  • मिज़ोरम को वर्ष 1954 तक 'लुशाई पर्वतीय ज़िले' के नाम से जाना जाता था।
  • यह भाषा मिज़ोरम के अतिरिक्त मिज़ोरम से सटे मणिपुर, त्रिपुरा, चटगांव हिल और चिन हिल्स के आसपास के क्षेत्रों मे भी बोली जाती है।
  • मिज़ो़ भाषा को लिखने मे निम्न स्वर और व्यंजनों का उपयोग किया जाता है-

a, aw, b, ch, d, e, f, g, ng, h, i, j, k, l, m, n, o, p, r, s, t, ţ, u, v, और z

  • भारत में ईसाई धर्म प्रचारकों ने मिज़ो़ भाषा को लिखने के लिये रोमन लिपि पर आधारित एक लिपि विकसित की थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः