मुंगरा गढ़  

मुंगरा गढ़ उत्तरकाशी जनपद के नौगांव विकासखण्ड के मुंगरा गांव में है। गढ़ एक टीले पर था, जिस पर पहुंचने का एक ही रास्ता था। इस गढ़ पर चौमंजिला कोठा था, जिसमें अंदर से यमुना तक जाने की सीढिय़ां व सुरंग थी। पहले यह गढ़ रावत जाति का था, लेकिन बाद में गोरख्याणी से पहले रौतेला लोगों का हो गया था। 1805-06 में गोरखों ने भी लूटपाट करने का प्रयास किया था। 30 जून 1958 ई. को इस गढ़ कोठे में आग लग गई थी। गढ़ के रौतेला परिवार वर्तमान मुंगरा व मुराड़ी गांव में रहते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुंगरा_गढ़&oldid=506829" से लिया गया