मुक्तिद्वार सप्तमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • जब सप्तमी को हस्त नक्षत्र हो या पुष्य नक्षत्र हो तो यह व्रत किया जाना चाहिए।
  • कर्ता को 'अर्क' के 'प्रणाम' के साथ अर्क की टहनी से अपने दाँत स्वच्छ करने चाहिए।
  • होम, गोबर से लीपे गए आँगन में लाल चन्दन के लेप से एक षोडश दल कमल बनाना चाहिए; जिसके प्रत्येक दल पर पूर्व से आरम्भ कर कतिपय देवों को प्रतिष्ठापित करना चाहिए।
  • तब आहावान से आरम्भ कर अन्य उपचार सम्पादिन करने चाहिए।
  • उस दिन उपवास; एक वर्ष तक, छ: रसों (मधुर, लवण, तिक्त, कषाय, कटु, अम्ल) में किसी एक को दो मास तक खाना चाहिए और तेरहवें मास में पारण तथा एक कपिला गाय का दान; मोक्ष प्राप्ति कराता है।[1] ऐसी मान्यता है।



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत0 2, 780-783

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुक्तिद्वार_सप्तमी&oldid=188828" से लिया गया