मुरु  

मुरु अथवा मुर का उल्लेख हिन्दू पौराणिक महाकाव्य महाभारत में हुआ है। महाभारत के अनुसार ये एक दानव और प्राग्ज्योतिषपुर के राजा भगदत्त का पिता था। यह असुरराज नरकासुर का सेनापति भी था।[1]

  • यह शंखासुर का पुत्र पाँच सिर वाला एक दैत्य था, जिसे श्रीकृष्ण ने(विष्णु ने ) मारा था और इसका वध करने के कारण ही उनका (कृष्ण का) नाम 'मुरारि' पड़ा था। इसके एक पुत्र का नाम वत्सासुर था और कुल 7000[2] पुत्र थे, जो अपने सेनापति की अध्यक्षता में युद्ध के लिये उठ खड़े हुए पर गरुड़ ने सबको प्राग्‍ज्योतिष नगर के बाहर मार डाला था[3][4]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 88 |
  2. भागवत पुराण- 7
  3. भाग. 10.59.6-19; 37.16; 3.3.11; 4.26.24; विष्णु 5.29.17,18
  4. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 427 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुरु&oldid=549416" से लिया गया