मुस्लिम तिथिपत्र  

मुस्लिम तिथिपत्र को इस्लामी तिथिपत्र भी कहा जाता है। यह मुस्लिम जगत् में प्रयुक्त कालगणना प्रणाली है।[1] यह 12 महीनों के वर्ष पर आधारित है, प्रत्येक माह लगभग नए चंद्रमा से शुरू होता है।[2]

ज़ुलहिज्जाह

इसमें महीने क्रमशः 30 और 29 दिनों के होते हैं, केवल 12वें महीने को छोड़कर, जिसकी लंबाई 30 वर्षीय चक्र में बदलती है। यह चंद्रमा की सही कलाओं के साथ चलने के लिए किया जाता है। इस चक्र के 11 वर्षों में ज़ुलहिज्जाह के 30 दिन होते है और शेष 19 वर्षों में उसके 29 दिन ही रहते हैं। इस प्रकार एक वर्ष में 354 या 355 दिन होते हैं। कोई माह आपस में समाविष्ट या समायोजित नहीं किया जाता, इस कारण अलग-अलग नाम वाले महीने उसी ऋतु में नहीं आते, वे संपूर्ण सौर वर्ष में या ऋतु आधारित वर्ष में पीछे हटते जाते हैं, यह क्रम (लगभग 365.25 दिन का) प्रत्येक 32.5 सौर वर्षों में पूरा होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. तुर्की एक अपवाद है, जहाँ ग्रेगोरी कलॅण्डर का उपयोग किया जाता है।
  2. परंतु ईरानी मुस्लिम तिथिपत्र सौर वर्ष पर आधारित है।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुस्लिम_तिथिपत्र&oldid=597956" से लिया गया