मृगशिरा नक्षत्र

अर्थ - मृग शीष
देव - सोम

  • मृगशिरा नक्षत्र आकाश मंडल में पांचवा नक्षत्र है।
  • मृगशिरा नक्षत्र के प्रथम दो चरण वृषभ राशि में आते हैं।
  • जहाँ नक्षत्र स्वामी मंगल है।
  • मृगशिरा में वत्स सहित गाय का दान करने का नियम है।
  • मृगशिरा नक्षत्र के देवता मंगल को माना जाता है।
  • खैर के वृक्ष को मृगशिरा नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और मृगशिरा नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति खैर वृक्ष की पूजा करते है।
  • इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति अपने घर में खैर के वृक्ष को लगाते है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

-

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

अं
क्ष त्र ज्ञ श्र अः