मृगशीर्ष व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • श्रावण के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा पर शिव ने तीन फलकों के एक बाण से हरिण का रूप धारण किये हुए यज्ञ के तीन मुखों को भेदा था।
  • कर्ता को मिट्टी से मृगशीर्ष की प्रतिमा बना कर तरकारियों एवं सरसों से युक्त आटे के विभिन्न नैवेद्य से पूजा करनी चाहिए।[1]; [2]

 


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 358-359
  2. स्मृतिकौस्तुभ (146

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मृगशीर्ष_व्रत&oldid=189251" से लिया गया