मैंगनीज  

क्रोमियममैंगनीजलोहा
-

Mn

Tc
रंग रुप
चमकीली धातु
साधारण गुणधर्म
नाम, प्रतीक, संख्या मैंगनीज, Mn, 25
तत्व श्रेणी संक्रमण धातु
समूह, आवर्त, कक्षा 7, 4, d
मानक परमाणु भार 54.938045g·mol−1
इलेक्ट्रॉन विन्यास 1s2 2s2 2p6, 3s2 3p6, 14s2 3d5
इलेक्ट्रॉन प्रति शेल 2, 8, 13, 2
भौतिक गुणधर्म
अवस्था ठोस
घनत्व (निकट क.ता.) 7.21 g·cm−3
तरल घनत्व (गलनांक पर) 5.95 g·cm−3
गलनांक 1519 K, 1246 °C, 2275 °F
क्वथनांक 2334 K, 2061 °C, 3742 °F
संलयन ऊष्मा 12.91 किलो जूल-मोल
वाष्पन ऊष्मा 221 किलो जूल-मोल
विशिष्ट ऊष्मीय क्षमता 26.32

जूल-मोल−1किलो−1

वाष्प दाब
P (Pa) 1 10 100 1 k 10 k 100 k
at T (K) 1228 1347 1493 1691 1955 2333
परमाण्विक गुणधर्म
ऑक्सीकरण अवस्था 7, 6, 5, 4, 3, 2, 1, -1, -2, -3
(ऑक्साइड : ऑक्सीकरण अवस्था के आधार पर अम्लीय, क्षारीय या एम्फोटेरिक)
इलेक्ट्रोनेगेटिविटी 1.55 (पाइलिंग पैमाना)
आयनीकरण ऊर्जाएँ
(अधिक)
1st: 717.3 कि.जूल•मोल−1
2nd: 1509.0 कि.जूल•मोल−1
3rd: 3248 कि.जूल•मोल−1
परमाण्विक त्रिज्या 127 pm
सहसंयोजक त्रिज्या 139±5 (कम घुमाव), 161±8 (अधिक घुमाव) pm
वैन्डैर वाल्स त्रिज्या 184 pm
विविध गुणधर्म
चुम्बकीय क्रम पराचुम्बकीय
वैद्युत प्रतिरोधकता (20 °C) 1.44 µΩ·m
ऊष्मीय चालकता (300 K) 7.81 W·m−1·K−1
ऊष्मीय प्रसार (25 °C) 21.7 µm·m−1·K−1
ध्वनि चाल (पतली छड़ में) (20 °C) 5150 m.s-1
यंग मापांक 198 GPa
स्थूल मापांक 120 GPa
मोह्स कठोरता मापांक 6.0
ब्राइनल कठोरता 196 MPa
सी.ए.एस पंजीकरण संख्या 7439-96-5
समस्थानिक
समस्थानिक प्रा. प्रचुरता अर्द्ध आयु क्षरण अवस्था क्षरण ऊर्जा
(MeV)
क्षरण उत्पाद
52Mn syn 5.591 d ε - 52Cr
β+ 0.575 52Cr
γ 0.7, 0.9, 1.4 -
53Mn ट्रेस 3.74 ×106 y ε - 53Cr
54Mn syn 312.3 d ε 1.377 54Cr
γ 0.834 -
55Mn 100% 55Mn 30 न्यूट्रॉन के साथ स्थिर

मैंगनीज (अंग्रेज़ी:Manganese) आवर्त सारणी का एक तत्त्व जो स्थान- उपवर्ग VII B, आवर्त- चतुर्थ, ब्लॉक- d में स्थित है। मैंगनीज का प्रतीकानुसार 'Mn', परमाणु संख्या- 25 तथा परमाणु भार- 54.93 है। मैंगनीज का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास- 1s2 2s2 2p6, 3s2 3p6, 14s2 3d5 है।

निष्कर्षण

मैंगनीज का निष्कर्षण मुख्यतः पाइरोलुसाइट नामक अयस्क से किया जाता है।

यौगिक

पोटैशियम परमैंगनेट

पोटैशियम परमैंगनेट (KMnO4) एक बैंगनी रंग का क्रिस्टलीय ठोस है। इसे लाल दवा के नाम से जाना जाता है। औद्योगिक पैमाने पर इसका उत्पादन मैंगनीज के अयस्क पाइरोलुसाइट से होता है। इसका रवा बैंगनी रंग का होता है। तथा उसमें धातुई चमक भी होती है। यह जल में साधारण विलेय है तथा गुलाबी रंग का विलयन बनाता है। इसे प्रबलता से गर्म करने पर पोटैशियम मैंगनेट एवं मैंगनीज डाइऑक्साइड बनता है। पोटैशियम परमैंगनेट का विस्तृत उपयोग आयतनीय विश्लेषण में ऑक्सीकारक के रूप में होता है। कार्बनिक यौगिकों में द्विबंधन की जाँच में भी इसका उपयोग होता है। ऊनी, रेशमी एवं सूती कपड़ों के विरंजन तथा तेलों को रंगहीन बनाने में भी इसका उपयोग होता है। यह जल को कीटाणुरहित करता है।

मैंगनीज डाइऑक्साइड

शुष्क सेलों में मैंगनीज डाइऑक्साइड (MnO2) विध्रुवक का कार्य करता है।

विशेष

जीवित मानव शरीर में मैंगनीज सबसे कम पाया जाने वाला तत्त्व है।

प्राप्ति स्थान

लौह इस्पात उद्योग में एक प्रमुख कच्चे माल के रूप में प्रयुक्त होने वाली धातु मैंगनीज प्रायः काले रंग की प्राकृतिक भस्मों के रूप में मारवाड़ युग की अवसादी चट्टानों में पायी जाती है। साइलोंमैलीन तथा ब्रोनाइट इसके प्रमुख अयस्क है। इसकी प्राप्ति पाइरोलूसाइट, हॉलैंडाइट, सीटैपराइट, हाउसमैनाइट, मैंगेनाइट, रोडोनाइट, रोडोक्रोसाइट एवं जैसोब्साइट जैसे अयस्कों से भी होती है। भारत में मिलने वले मैंगनीज अयस्क में धातु का अंश 52 प्रतिशत तक पाया जाता है, जो इसकी उत्कृष्टता का सूचक है। देश में मैंगजीन खनिज का निकाला जा सकने योग्य भंडार 16 करोड़ 70 लाख टन है, जिसमें 4 करोड़ टन प्रमाणित, 4 करोड़ 90 लाख टन अप्रमाणित और 7 करोड़ 80 लाख टन संभावित श्रेणी के है। मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र देश के प्रमुख मैंगनीज उत्पादक राज्य हैं। यहां 15 किमी चौड़ी तथा लगभग 205 किमी लंबी पेटी में मैंगनीज का जमाव हैं, जो पश्चिम में महाराष्ट्र के नागपुर एवं भंडारा ज़िलों तक विस्तृत है। मध्य प्रदेश में मैंगनीज उत्खनन करने वाले प्रमुख ज़िले हैं - बालाघाट तथा छिन्दवाड़ा। इनके अतिरिक्त मांडला, बस्तर, बिलासपुर, जबलपुर, धार, झाबुआ आदि ज़िलों में भी मैंगनीज की प्राप्ति होती है। महाराष्ट्र के नागपुर तथा भण्डारा ज़िलों में 19 किमी लम्बी पेटी में मैगनीज उत्खनन किया जाता है।

देश में मैंगनीज खनिज के मुख्य भंडार कर्नाटक में से और उसके बाद उड़ीसा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गोवा में हैं। गुजरात[1], गोवा[2], आन्ध्र प्रदेश[3], राजस्थान[4] कर्नाटक आदि राज्यों में भी मैंगनीज की प्राप्ति होती है। भारत में मैंगनीज उत्पादन में प्रथम उड़ीसा, द्वितीय स्थान मध्य प्रदेश तथा तृतीय महाराष्ट्र का है। 2006-07 के दौरान 1882 हज़ार टन मैंगनीज अयस्क का उत्पादन हुआ।

भारत से ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमरीका, जापान, जर्मनी, फ्रांस, चेक तथा स्लोवाक गणराज्यों, बेल्जियम आदि देशों को मैंगनीज का निर्यात किया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बड़ोदरा, पंचमहल, साबरकांठा, बनासकांठा ज़िले
  2. परनेम तथा बारदेर क्षेत्र
  3. विशाखापट्नम, कुडप्पा तथा श्रीकाकुलम ज़िले
  4. उदयपुर, बांसवाड़ा, पाली ज़िले

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मैंगनीज&oldid=489641" से लिया गया