मैं समय हूँ, काल हूँ मैं -आदित्य चौधरी  

Copyright.png
मैं समय हूँ, काल हूँ मैं -आदित्य चौधरी

मैं समय हूँ, काल हूँ मैं
सकल व्योमिक चाल हूँ मैं
पल, घड़ी और प्रहर हूँ मैं
दिवस मास और साल हूँ मैं

मैं समय संसार रचता
सकल ये ब्रह्माण्ड रचता
मुझसे सूरज चांद तारे
मैं तेरा आकार रचता

बारहों आदित्य मेरे
आठ वसुओं का मैं स्वामी
और ग्यारह रुद्र मुझको
मानते अपना रचयिता

एक नया ये वर्ष देने
फिर से तेरे सामने हूँ
फिर से जी ले
फिर से मर ले
संग मैं संग्राम में हूँ



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मैं_समय_हूँ,_काल_हूँ_मैं_-आदित्य_चौधरी&oldid=519997" से लिया गया