यम तर्पण  

Disamb2.jpg यम एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- यम (बहुविकल्पी)
  • तिलयुक्त जल की अंजलियों से यम के तीन नामों (यम, धर्मराज, अन्तक) को तीन बार तर्पण करना चाहिए।
  • इस व्रत से एक वर्ष में किये गये पाप तुरन्त ही समाप्त हो जाते हैं।



टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=यम_तर्पण&oldid=160058" से लिया गया