यम व्रत  

Disamb2.jpg यम एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- यम (बहुविकल्पी)
  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • जो व्यक्ति शुक्ल पक्ष प्रतिपदा, पंचमी, षष्ठी, अष्टमी या चर्तुदशी को उपवास करता है तथा ब्रह्म भोज कराता है, वह रोग मुक्त हो जाता है और सुन्दर रूप पाता है।[1]
  • कृष्ण पक्ष की चर्तुदशी को यम व्रत रखा जाता है।
  • यम के प्रत्येक नाम यम, धर्मराज, चित्र, चित्रगुप्त, मृत्यु, अन्तक, वैवस्वत, काल एवं सर्वभूतक्षय पर तिल-जल की सात अंजलियों का अर्पण करना चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि यमव्रत करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है।[2]
  • कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चर्तुदशी पर स्नान एवं यम को तर्पण करना चाहिए।
  • एक ब्राह्मण को तिल युक्त पात्र एवं सोने का दान देना चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि यमव्रत कर्ता मृत्यु पर दु:ख नहीं उठाता।[3]
  • यदि राजा यम की पूजा दशमी को हो तो रोगों का निवारण हो जाता है।[4]
  • जब चतुर्थी रविवार को पड़ती है और वह भरणी नक्षत्र से युक्त होती है तो यम के अनुग्रह की प्राप्ति के लिए भैंस एवं सोने का दान करना चाहिए।[5]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु (व्रतखण्ड 389); हेमाद्रि (व्रत खण्ड 2, 377, महाभारत से उद्धरण
  2. हेमाद्रि व्रत खण्ड 2, 151, कूर्म पुराण से उद्धरण
  3. हेमाद्रि व्रत खण्ड 2, 151
  4. हेमाद्रि व्रत खण्ड 1, 182, भविष्यपुराण से उद्धरण
  5. अहल्याकामधेनु (357, कूर्मपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=यम_व्रत&oldid=593201" से लिया गया