ये जो मिरी आंखों में -आदित्य चौधरी  

Copyright.png
ये जो मिरी आंखों में -आदित्य चौधरी

ये जो मिरी आंखों में तैरता हुआ पानी है,
कुछ और नहीं
तुझसे मेरे रिश्ते की कहानी है
पैंतीस साल होने को आ रहे हैं
कुछ दिन बाद
अपनी शादी को
मगर लगता है कि
तेरे मेरे बीच
आज भी वही गर्माहट
और रवानी है
कौन कहता है कि
ख़ूब निबाहा है हमने ?
निबाहा तो बिल्कुल नहीं...
हमें तो ज़िन्दगी साथ-साथ
यूँ ही जीते जानी है...

Asha-chaudhary.jpg



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ये_जो_मिरी_आंखों_में_-आदित्य_चौधरी&oldid=520014" से लिया गया