रंभा  

(रम्भा से पुनर्निर्देशित)
  • पुराणों में रंभा का चित्रण एक प्रसिद्ध अप्सरा के रूप में माना जाता है, जो कि कुबेर की सभा में थी।
  • यह कश्यप और प्राधा की पुत्री थी।
  • रंभा अपने रूप और सौन्दर्य के लिए तीनों लोकों में प्रसिद्ध थी।
  • रंभा कुबेर के पुत्र नलकुबर के साथ पत्नी की तरह रहती थी।
  • इस सम्बन्ध को लेकर रावण ने एक बार दोनों का उपहास किया था।
  • रावण द्वारा इस प्रकार उपहास किए जाने पर नलकुबर ने उसे शाप दिया था कि, तुझे न चाहने वाली स्त्री से तू बलात्कार करेगा, तब तुझे अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ेगा।
  • इसी शाप के भय से रावण सीता पर अपने बल का प्रयोग न कर सका।
  • अन्यत्र विवरण मिलता है कि, रावण ने रंभा के साथ बल का प्रयोग करना चाहा था, जिस पर उसने भी उसे शाप दिया था।
  • इन्द्र ने देवताओं से रंभा को अपनी राजसभा के लिए प्राप्त किया था।
  • स्वर्ग में अर्जुन के स्वागत के लिए रंभा ने नृत्य किया था।
  • विश्वामित्र की घोर तपस्या से विचलित होकर इंद्र ने रंभा को बुलाकर विश्वामित्र का तप भंग करने के लिए भेजा था।
  • ऋषि इन्द्र का षड्यंत्र समझ गए और उन्होंने रंभा को हज़ार वर्षों तक शिला बनकर रहने का शाप दे डाला।
  • वाल्मीकि रामायण के अनुसार एक ब्राह्मण द्वारा यह ऋषि के शाप से मुक्त हुई।
  • स्कन्दपुराण में इसके उद्धारक 'श्वेतमुनि' बताए गए हैं, जिनके छोड़े बाण से यह शिलारूप में कंमितीर्थ में गिरकर मुक्त हुई।
  • महाभारत में इसे तुरुंब नाम के गंधर्व की पत्नी बताया गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रंभा&oldid=152831" से लिया गया