राजकुमारी दुबे  

(राजकुमारी (गायिका) से पुनर्निर्देशित)
राजकुमारी दुबे विषय सूची
राजकुमारी दुबे
राजकुमारी दुबे
पूरा नाम राजकुमारी दुबे
प्रसिद्ध नाम राजकुमारी
जन्म 1924
जन्म भूमि बनारस, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 18 मार्च, 2000
पति/पत्नी बी.के. दुबे
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र गायन
मुख्य फ़िल्में 'बॉम्बे मेल', 'गोरख आया', 'नौकर', 'नील कमल', 'महल', 'बावरे नैन', 'हलचल', 'आसमान', 'पाकीजा' आदि।
प्रसिद्धि पार्श्वगायिका
नागरिकता भारतीय
गायन काल 1934-1977
अन्य जानकारी 1941 में राजकुमारी दुबे का कॅरियर ऊँचे परवान चढ़ने लगा था। इस साल उन्होंने पन्नालाल घोष, सरस्वती देवी, रामचन्द्र पाल, एस. एन. त्रिपाठी, ज्ञानदत्त, ख़ान मस्ताना, माधुलाल मास्टर, रफ़ीक गज़नवी एवं खेमचन्द प्रकाश जैसे दिग्गजों के लिए गीत गाए।

राजकुमारी दुबे (अंग्रेज़ी: Rajkumari Dubey, जन्म- 1924, बनारस; मृत्यु- 18 मार्च, 2000) हिन्दी सिनेमा की जानीमानी गायिका थीं। उनका नाम भले ही नई पीढ़ी के लिए विस्मृत हो चुका हो, लेकिन पुराने संगीत के चाहने वालों में उनका नाम आज भी उसी अदब के साथ लिया जाता है, जैसे उनके कार्यकाल में लिया जाता था। उनकी आवाज़ में एक अनोखी मिठास थी, जो भुलाए नहीं भूलती। वे अपने ज़माने की अग्रणी और बेहद प्रतिभाशाली गायिका रहीं। उनके गाए गानों ने बीस से भी अधिक वर्षों तक श्रोताओं का दिल लुभाया। गायिका राजकुमारी दुबे ने बेशुमार अभिनेत्रियों को आवाज़ प्रदान की। उन्होंने अनगिनत संगीतकारों, गीतकारों एवं रंगमंच के कलाकारों को सफलताएँ देने में अहम भूमिका निभाई थी।

परिचय

गुजरे जमाने की गायिका राजकुमारी दुबे का जन्म 1924 में बनारस, उत्तर प्रदेश में हुआ था। कहते हैं कि सपूत के पांव पलने में दिखने लगते हैं। कुछ ऐसी ही सख्शियत गायिका राजकुमारी की भी थी। उन्होंने महज 14 वर्ष की उम्र में ही अपना पहला गाना एचएमवी में रिकॉर्ड कराया था। गाने के बोल थे- "सुन बैरी बलमा कछू सच बोल न।' यह अलग बात थी कि राजकुमारी ने किसी संस्था से संगीत की कोई शिक्षा नहीं ली थी, लेकिन ईश्वर ने जो उन्हें कंठ बख्शा था, वह कम नहीं था। इसके बाद तो उन्होंने विभिन्न मंचों पर अपनी गायिकी का सफर जारी रखा। तीस के दशक में मूलत: अभिनेत्रियाँ अपने गीत खुद गाती थीं। इस सूरत को बदलने में राजकुमारी दुबे का नि:सन्देह बड़ा हाथ रहा। उनके गीतों की माँग के चलते कई संगीतकारों ने उनकी आवाज़ का इस्तेमाल किया और आने वाले समय में वे पार्श्वगायन का एक चमकता हुआ सितारा बन गईं। उन्होंने सभी तरह के गीत गाए।[1]

फ़िल्मी शुरुआत

कहते हैं कि एक बार राजकुमारी सार्वजनिक मंच पर गाना गा रही थीं। वहीं उनकी मुलाकात फ़िल्म निर्माता प्रकाश भट्ट से हो गई। उन्होंने राजकुमारी को 'प्रकाश पिक्चर' से जुड़ने का न्यौता दे दिया। इस बैनर के तहत बनने वाली गुजराती फ़िल्म 'संसार लीला' में कई गाने पेश किए। इस फ़िल्म को हिन्दी में भी 'संसार' नाम से फ़िल्माया गया। इसमें राजकुमारी जी ने गीत पेश किया 'आंख गुलाबी जैसे मद की प्यालियां, जागी हुई आंखों में है शरम की लालियां।' इसके बाद तो उनकी प्रतिभा बॉलीवुड में सिर चढ़कर बोलने लगी। वर्ष 1933 में फ़िल्म 'आंख का तारा', 'भक्त और भगवान', 1934 में 'लाल चिट्ठी', 'मुंबई की रानी' और 'शमशरे अलम' में गीत पेश कर राजकुमारी दुबे ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा दिया। इस दौरान उनके कई कालजयी गीतों ने लोगों को गुनगुनाने के लिए बाध्य कर दिया। अधिकतर सुनने वालों को याद नहीं होगा कि पार्श्वगायन से पहले राजकुमारी अभिनय से भी जुड़ी हुईं थीं।

कॅरियर

'बम्बई की सेठानी' में अभिनय के साथ ही राजकुमारी ने "हमसे क्यों रूठ गये बंसी बजाने वाले" गीत भी गाया था। फिल्म 'बाम्बे मेल' के गीत उस ज़माने में बेहद मुकम्मल साबित हुए। गीत "किसकी आमद का यूँ इन्तज़ार है" राजकुमारी ने स्वयं लल्लूभाई एवं इस्माइल के साथ बहुर खूबसूरती के साथ गाया। इस गीत में आरकेस्ट्रा न के बराबर है, पर उनकी आवाज़ की मिठास सुनने वाले का ध्यान खींचती है। इसी फिल्म में धीमी गति की एक गज़ल "बातों बातों में दिल-ए-बेज़ार" उन्होंने अपनी मीठी तानों संग गाया था। फिल्म का "कागा रे जइयो पिया की गलियन" तो बहुत ही लोकप्रिय हुआ था। 1936 उनके लिए बहुत सफल साबित रहा। कुछ लोग गलत समझते हैं कि इस साल की लोकप्रिय फिल्म 'देवदास' में भी अभिनेत्री थीं, पर चन्द्रमुखी की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री भिन्न हैं।

अंतिम समय

1952 में राजकुमारी ने ओ. पी. नैयर के साथ भी कई गीत गाए। यह अलग बात है कि उनका नाम भले ही राजकुमारी था, लेकिन उनका अंत मुफलिसी में हुआ। इस दौरान उन्होंने गायिका और अभिनेत्री के रूप में जो काम बॉलीवुड में किया, वह शायद ही कभी भुला लोग पाएँ। 1955 में गुमनामी की ओर बढ़ती सरस्वती देवी को एक ही गीत 'इनाम' फिल्म में मिला। ये भक्ति गीत “तू ही मारे, तू ही तारे, तू ही बिगड़ी बार संवारे” राजकुमारी ने मोहनतारा के साथ गाया था। गीत तो अच्छा है पर दोनों गायिकाओं और संगीतकारा की बिगड़ी संवार नहीं पाया। 1956 में चिल्ड्रन फिल्म सोसायटी की बाल फिल्म 'जलदीप' किदार शर्मा ने निर्देशित की थी। ये फिल्म 1957 में वेनिस में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में सर्वोत्तम बाल फिल्म का पुरस्कार लाई थी। राजकुमारी का इसमें कम से कम एक गीत “देखो देखो पंछी देखी ये फुलवारी कैसी” गाया था। ये गीत वक्त के साथ खो गए। धीरे-धीरे नए ज़माने ने राजकुमारी से मुख मोड़ लिया था और राजकुमारी उसके बाद वर्षों तक गुमनामी की ज़िन्दगी में चली गईं।[1]

मृत्यु

नब्बे के दशक के अन्त में सारेगामा पर राजकुमारी दुबे को काफ़ी सराहा गया था। उनका एक साक्षात्कार कमर जलालाबादी की सुपुत्री स्वर जलालाबादी ने लिया था। राजकुमारी गुमनामी में जी तो रही थीं, पर कार्यक्रमों में उनके गायन ने नई पीढ़ी के कई लोगों को उनके बारे में अवगत करा दिया था। वक्त ने उनसे उनकी रोज़ी तो छीन ली थी, पर उनकी आवाज़ की मिठास नहीं छीन सका था। 18 मार्च, 2000 को इस महान् गायिका ने हमेशा के लिए आँखें मूँद लीं। उनके जनाज़े में फिल्म इन्डस्ट्री से सिर्फ गायक सोनू निगम मौजूद थे, जिन्होंने सारेगामा कार्यक्रम संचालित किया था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 गायिकाओं की रानी : राजकुमारी (हिन्दी) anmolfankaar.com। अभिगमन तिथि: 08 जुलाई, 2017।

संबंधित लेख

राजकुमारी दुबे विषय सूची

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=राजकुमारी_दुबे&oldid=604365" से लिया गया