रामकृष्ण शिंदे  

रामकृष्ण शिंदे विषय सूची
रामकृष्ण शिंदे    परिचय    फ़िल्मी कॅरियर
रामकृष्ण शिंदे
रामकृष्ण शिंदे
पूरा नाम रामकृष्ण शिंदे
जन्म 1918
जन्म भूमि महाराष्ट्र
मृत्यु 14 सितम्बर, 1985
पति/पत्नी नलिनी
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय सिनेमा
मुख्य फ़िल्में 'मैनेजर', 'बिहारी', 'किसकी जीत', 'गौना', 'ख़ौफ़नाक़ जंगल', 'पुलिस स्टेशन' और 'कैप्टन इण्डिया' आदि।
प्रसिद्धि संगीतकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी 'इण्डियन नेशनल थिएटर' के बैले-नृत्यों के संगीत ने भी रामकृष्ण शिंदे को ख़ासी लोकप्रियता दी और फिर एक समय ऐसा आया, जब उनका नाम बैले-नृत्य संगीत का पर्याय बन गया। अपने जीवन काल में उन्होंने कुल 27 बैले-नृत्यों का संगीत संयोजन किया।

रामकृष्ण शिंदे (अंग्रेज़ी: Ramkrishna Shinde, जन्म- 1918, महाराष्ट्र, मृत्यु- 14 सितम्बर, 1985) हिन्दी सिनेमा के जानेमाने संगीतकार थे। हिंदी सिनेमा के इतिहास में ऐसे बहुत से गुणी संगीतकारों के नाम मौजूद हैं, जिन्होंने मौक़ा मिलते ही बेहद मधुर धुनें रचीं; लेकिन तमाम काबिलियत और संगीत का भरपूर ज्ञान होने के बावजूद सिनेजगत में उन्हें वह जगह नहीं मिल पायी, जिसके वह हक़दार थे। इसकी एकमात्र वजह यही थी कि उनमें इस चकाचौंध भरी दुनिया में ख़ुद को बनाए रखने के लिए सबसे ज़्यादा ज़रूरी, ख़ुद को बेच पाने का गुण नहीं था। ऐसे ही संगीतकारों में रामकृष्ण शिंदे भी शामिल थे, जिन्होंने 1947 में बनी फ़िल्म 'मैनेजर' से अपना कॅरियर शुरू किया था।

परिचय

पश्चिमी महाराष्ट्र के मालवण इलाक़े के एक मराठा परिवार में जन्मे रामकृष्ण शिंदे के जन्म की सही तारीख और साल कहीं दर्ज तो नहीं है, लेकिन उनके परिवार के अंदाज़े के मुताबिक़ उनका जन्म साल 1918 में 'रामनवमी' के दिन हुआ था और इसी वजह से उनका नाम रामकृष्ण रखा गया था। दो भाई और दो बहनों में रामकृष्ण सबसे बड़े थे। वे नौ-दस बरस के हुए कि उनके पिता का देहांत हो गया। ऐसे में उनके मामा और मौसी अपनी विधवा बहन और उनके चारों बच्चों को साथ लेकर मुम्बई चले आए, जहां नानाचौक के इलाक़े में रामकृष्ण का बचपन ग़ुज़रा।[1]

फ़िल्मी कॅरियर

शुरूआत में रामकृष्ण शिंदे ने मराठी नाटकों में संगीत देना शुरू किया। उनकी बनायी बंदिशें बेहद मशहूर होने लगीं और बहुत जल्द वह मराठी नाटकों के दर्शकों के बीच एक जाना-पहचाना नाम बन गए। अपनी बनाई कर्णप्रिय धुनों की वजह से ही उन्हें फ़िल्म 'मैनेजर' मिली थी। 'तिवारी प्रोडक्शंस' के बैनर में 1947 में बनी इस फ़िल्म के निर्देशक थे आई.पी.तिवारी और मुख्य कलाकार थे- जयप्रकाश, पूर्णिमा, गोबिंद, सरला, अज़ीज़, अमीना और तिवारी। उसी दौरान उन्हें फ़िल्म 'बिहारी' का संगीत तैयार करने का भी मौक़ा मिला, जिसमें उनके अलावा एक अन्य संगीतकार नरेश भट्टाचार्य भी काम कर रहे थे।

'समाज चित्र, बम्बई' के बैनर में बनी इस फ़िल्म का निर्देशन के.डी. काटकर और ए.आर. ज़मींदार की जोड़ी ने किया था, कलाकार थे बी.नान्द्रेकर, सुरेखा, एच. प्रकाश, फ़ैयाजबाई, निम्बालकर, सैम्सन और शबनम, और मुंशी फरोग़ का लिखा और लता का गाया गीत 'सब्ज़े की दुर्फ़िशानी, फूलों का शामियाना' उस दौर में ख़ासा मशहूर हुआ था। बाक़ी नौ गीत अमीरबाई कर्नाटकी, एन.सी. भट्टाचार्य और ए.आर. ओझा के स्वरों में थे। फ़िल्म 'बिहारी' साल 1948 में प्रदर्शित हुई थी। 1948 में ही उनकी एक और फ़िल्म 'किसकी जीत' प्रदर्शित हुई थी। इस फ़िल्म का निर्माण भी तिवारी प्रोडक्शन के बैनर में ही हुआ था, निर्देशक थे सफदर मिर्ज़ा और मुख्य कलाकार सादिक़, इंदु कुलकर्णी, पुष्पा, मक़बूल, अमीना बाई, चन्द्रिका और तिवारी। गीतकार थे कुमार शर्मा। फ़िल्म 'मैनेजर' के सात में से छ: गीत फ़िल्म 'किसकी जीत' में इस्तेमाल किए गए थे।

रामकृष्ण शिंदे ने दो मराठी फ़िल्मों में भी संगीत दिया था। ये फ़िल्में थीं साल 1966 में बनी 'तोची साधु ओळाखावा' और 1970 में बनी 'आई आहे शेतात', जिसका निर्माण भी शिंदे ने ही किया था। इसके अलावा उन्होंने ऑल इण्डिया रेडियो के भी कुछ कार्यक्रमों में संगीत दिया था, जिनमें 'होनाजी बाला', 'बिल्ली मौसी की फजीहत', 'सोना और सात बौने', 'मानसी' और 'उषा मुस्काई' को बेहद सराहा गया।

मृत्यु

हिन्दी सिनेमा ने भले ही रामकृष्ण शिंदे यानि कि हेमंत केदार को उनका पूरा हक़ न दिया, लेकिन बैले-संगीत ने उन्हें ज़बर्दस्त पहचान दी। 14 सितम्बर, 1985 को जब हार्ट अटैक से उनका निधन हुआ तो उस वक़्त भी वे राजा ढाले के बैले 'चाण्डालिका' और दूरदर्शन के लिए अजित सिन्हा के बैले 'ऋतुचक्र' के संगीत पर काम कर रहे थे। रामकृष्ण शिंदे का निधन हुए कई वर्ष गुज़र चुके हैं। उनकी पत्नी और दोनों बेटियां आज भी मुम्बई में ही रहती हैं। फ़िल्मी दुनिया से इस परिवार का नाता न तो कभी पूरी तरह से जुड़ा था और न ही कभी इन्होंने उसे जोड़ने की कोशिश की। जो थोड़ा बहुत नाता ख़ुद-ब-ख़ुद जुड़ा भी था, वह भी रामकृष्ण शिंदे के निधन के बाद पूरी तरह से टूट गया।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. रामकृष्ण शिंदे (हिन्दी) beetehuedin.blogspot.in। अभिगमन तिथि: 11 जून, 2017।

संबंधित लेख

रामकृष्ण शिंदे विषय सूची
रामकृष्ण शिंदे    परिचय    फ़िल्मी कॅरियर

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रामकृष्ण_शिंदे&oldid=607777" से लिया गया