रेवत  

रेवत रोहिणीपुत्र बलराम के श्वसुर थे, जो कुशस्थली के राजा थे। ब्रह्मा की आज्ञा से इन्होंने अपनी पुत्री रेवती[1][2] का विवाह बलराम से कर दिया था।[3][4]

  1. उत्तानबर्हि
  2. आनर्त
  3. भूरिषेम
  • आनर्त के पुत्र हुए रेवत। महाराज रेवत ने ही समुद्र के मध्य में पहले कुशस्थली नगर बसाया।
  • महारात आनर्त के सौ पुत्रों में ज्येष्ठ पुत्र थे- ककुदमी


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. किसी-किसी ग्रंथ में रेवती को 'कुकुद्मी' अथवा 'ककुदमी' की पुत्री बताया गया है।
  2. भगवान वासुदेव -सुदर्शन सिंह चक्र पृ. 272 (हिंदी) hi.krishnakosh.org। अभिगमन तिथि: 28 जनवरी, 2017।
  3. विष्णुपुराण
  4. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 449 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रेवत&oldid=627416" से लिया गया