रैवत मनु  

रैवत मनु हिन्दू मान्यताओं तथा पौराणिक ग्रन्थ महाभारत के उल्लेखानुसार चौदह मनु में से पाँचवें मनु का नाम था। ये प्रियव्रत के पुत्र तथा तामस मनु के भाई थे और बलि, विंध्य आदि इनके पुत्र थे।

  • विभु उस मन्वंतर के इंद्र थे तथा भूतरया देवता थे।
  • इस मन्वंतर में बैकुंठ ही विष्णु का रूप था[1]
  • देवबाहु आदि सप्त ऋर्षि थे, पृथ्वी के दोहन में ये बछड़ा बने थे।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 397-398 |

  1. भाग. 5.1.28; 8.5.2-5
  2. ब्रह्मा. 2.36.3; 51.64; 37.17.8

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रैवत_मनु&oldid=548704" से लिया गया