लक्षणार्दा व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • लक्षणार्दाव्रत भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर आरम्भ होता है, जबकि आद्रा नक्षत्र हो।
  • पंचामृत से स्नान कराकर, गंध, पुष्पों आदि से तथा मंत्रों द्वारा जिनमें दोनों के नाम आये हों; शिव एवं उमा की पूजा करनी चाहिए।
  • अर्ध्य, धूप, गेहूँ के बने खाद्यान्नों [1]पाँच रसों [2] तथा मोदकों के नैवेद्य; स्वर्णिम प्रतिमाएँ एवं नैवेद्य की सामग्री किसी विद्वान ब्राह्मण को दे दी जाती हैं।
  • पापमोचन, सौन्दर्य, धन, दीर्घ आयु एवं यश की प्राप्ति के लिए यह व्रत किया जाता है।[3]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जिन पर मत्स्य आदि की आकृतियाँ बनी रहती हैं
  2. दही, दूध, घी, मधु एवं शक्कर
  3. हेमाद्रि (व्रत खण्ड 1, 826-829, मत्स्य पुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लक्षणार्दा_व्रत&oldid=188483" से लिया गया