ललिता व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत माघ शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखना चाहिए।
  • दोपहर को तिल एवं आमलक से किसी नदी में स्नान करके, पुष्पों आदि से देवी पूजा की पूजा करनी चाहिए।
  • इसमे तामपत्र में जल अक्षत एवं सोना रख कर एक ब्राह्मण के समक्ष रखा जाता है, जो मंत्र के साथ कर्ता पर जल छिड़कता है।
  • इस व्रत में स्त्री सम्पादिका सोने का दान करती है, कुश डुबोये जल को पीती है, देवी ध्यान में पृथ्वी शयन करती है और रात्रि बिताती है।
  • दूसरे दिन ब्राह्मणों एवं एक सधवा नारी का सम्मान करना चाहिए।
  • एक वर्ष तक, प्रत्येक मास में देवी के 12 नामों में से एक का प्रयोग[1] करना चाहिए।
  • बारह मासों में शुक्ल पक्ष की तृतीया पर उपवास करें तथा 12 वस्तुओं में क्रम से एक सेवन करें, यथा-कुश से पवित्र किया हुआ जल, दूध, घी आदि।
  • अन्त में एक ब्राह्मण एवं उसकी पत्नी को सम्मान देना चाहिए।
  • सम्पादिका को पुत्रों, रूप, स्वास्थ्य एवं सधवापन की प्राप्ति होती है।[2]
  • अग्निपुराण[3] में ललिता तृतीया का उल्लेख किया है और कहा है कि चैत्र शुक्ल तृतीया को गौरी जी शिव से विवाहित हुई थीं।
  • यही बात मत्स्यपुराण[4] में भी है।
  • मत्स्यपुराण[5] में आया है कि सती को ललिता कहा जाता है, क्योंकि वह सभी लोकों में सर्वोत्तम हैं और रूप में सब से बढ़कर हैं।
  • ब्रह्माण्ड पुराण के अन्त में 44 अध्यायों में ललिता सम्प्रदाय का विवेचन है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यथा-पहले मास में ईशानी, 8वें में ललिता तथा 12वें में गौरी
  2. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 418-421, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण)।
  3. अग्निपुराण (178|1-2
  4. मत्स्यपुराण (60|14-15
  5. मत्स्यपुराण (60|11

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ललिता_व्रत&oldid=188410" से लिया गया