लवणदान  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत मार्गशीर्ष की पूर्णिमा पर जब मृगशिरा नक्षत्र होता है, तब करना चाहिए।
  • चन्द्रोदय काल पर स्वर्णिम केन्द्र वाले एक पात्र में एक प्रस्थ भूमि से निकाले हुए लवण का किसी ब्राह्मण को दान करना चाहिए।
  • इससे रूप एवं सौभाग्य की प्राप्ति होती है।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णु धर्मसूत्र (90|1-2); स्मृतिकौस्तुभ (430), पुरुषचिन्तामणि (306)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लवणदान&oldid=141454" से लिया गया