वसिष्ठा  

वसिष्ठा गोदावरी की एक शाखा या उपनदी का नाम है।[1]

  • गोदावरी की सात धाराएँ- 'गौतमी', 'वसिष्ठा', 'कौशिकी', 'वृद्ध गौतमी', 'भारद्वाजी', 'आत्रेयी' और 'तुल्या' अतीव प्रसिद्ध है। पुराणों में इनका वर्णन मिलता है। इन्हें महापुण्यप्राप्ति कारक बताया गया है-

सप्तगोदावरी स्नात्वा नियतो नियताशन: ।
महापुण्यमप्राप्नोति देवलोके च गच्छति ॥


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 837 |

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वसिष्ठा&oldid=507182" से लिया गया