वाणिज्यलाभ व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत मूल नक्षत्र एवं पूर्वाषाढ़ा पर उपवास रखके करना चाहिए।
  • इसमें चार नवीन घड़ों के जल से, जिनमें शंख, मोती, लाल पौधों की जड़ें एवं सोना रखे हों, पूर्वाभिमुख होकर स्नान किया जाता है।
  • आँगन में विष्णु, वरुण एवं चन्द्र की पूजा की जाती है।
  • इन देवों के सम्मान में घी का होम, नीले वस्त्रों, चन्दन, मदिरा, श्वेत पुष्पों का दान होता है।
  • इससे वणिक सफलता प्राप्त करता है और समुद्र व्यापार एवं कृषि में असफल नहीं होता है।[1]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 648-649, विष्णुधर्मोत्तरपुराण से उद्धरण)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वाणिज्यलाभ_व्रत&oldid=141548" से लिया गया