विद्युन्माली  

विद्युन्माली पुराणानुसार एक एक राक्षस, जो तारकासुर का मझला पुत्र था। भगवान शंकर से इसे एक सोने का विमान मिला था, जिस पर चढ़ कर यह सूर्य के पीछे-पीछे घूमा करता था।

  • विमान लेकर सूर्य के पीछे रहने के कारण विद्युन्माली के विमान में अन्धकार नहीं होता था।
  • सूर्य ने अपने तेज़ से विद्युन्माली के विमान को जला दिया था।
  • रामायण के अनुसार धर्म के पुत्र सुषेण से विद्युन्माली का युद्ध हुआ था।
  • विद्युन्माली ने काफ़ी समय तक तप कर ब्रह्मा को प्रसन्न करके लोहे से निर्मित एक नगर माँगा था।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. शिवपुराण, रुद्रसंहिता 5.1

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विद्युन्माली&oldid=360555" से लिया गया