विद्वशालभंजिका  

संस्कृत कवि राजशेखर द्वारा रचित विद्वशालभंजिका चार अंकों का नाटक है, जिसमें 'विद्याधर मल्ल' नामक राजकुमार तथा 'मृगांकावली' एवं 'कुवलयमाला' नामक राजकुमारियों की प्रेमकथा का वर्णन है।



बोल्ड पाठ

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विद्वशालभंजिका&oldid=291887" से लिया गया