विभागसार  

विभागसार महाकवि विद्यापति द्वारा रचिक एक धर्म ग्रंथ हैं।

  • विभागसार ग्रन्थ भवेश के पुत्र हरिसिंहात्मज दर्पनारायण के आदेश से प्रणीत है।
  • विभागसार ग्रन्थ दायलक्षण, विभागस्वरूप, दायानर्ह, अविभाज्य, स्त्रीधन, द्वादशविधपुत्र, अपुत्रधनाधिकार, संसृष्टविभाग पर आधारित है[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नो. न्यू. (जिल्द 6,पृष्ठ 67

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विभागसार&oldid=312101" से लिया गया