विरोचन  

विरोचन प्रह्लाद का पुत्र और बलि का पिता था। वह प्रसिद्ध दैत्यराज हिरण्यकशिपु का पौत्र था।

  • पृथ्वी रूपी गौ दुहने के समय विरोचन असुरों की ओर बछड़ा बना था।
  • वज्रज्वाला उसकी पोती थी और इसका निवास स्थान ‘अर्वाकतलम्’ है, जो पुराणों के अनुसार पाँचवाँ लोक है।


इन्हें भी देखें: हिरण्यकशिपु, प्रह्लाद, कयाधु एवं होलिका


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विरोचन&oldid=521469" से लिया गया