विष्णुत्रिमूर्ति व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • विष्णु जी के तीन रूप हैं, यथा– वायु, चन्द्र एवं सूर्य ये तीनों रूप तीन लोकों की रक्षा करते हैं।
  • यह देवता मनुष्यों के शरीर के भीतर वात, पित्त एवं कफ के रूप में विराजमान रहते हैं, इस प्रकार विष्णु के तीन स्थूल रूप हैं।
  • ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष तृतीया को उपवास करना चाहिए।
  • इसमें विष्णु की पूजा करनी चहिए।
  • प्रात: वायु पूजा करनी चहिए।
  • मध्याह्न में अग्नि में जौ एवं तिल से होम तथा रात्रि में जल में चन्द्रपूजा करनी चाहिए।
  • एक वर्ष तक शुक्ल पक्ष की तृतीया पर पूजा करनी चहिए।
  • इससे स्वर्ग प्राप्ति होती है।
  • यदि तीन वर्षों तक किया जाए तो 5000 वर्षों तक स्वर्ग में स्थिति रहती है।[1]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुधर्मोत्तरपुराण (3|136|1-26)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विष्णुत्रिमूर्ति_व्रत&oldid=141661" से लिया गया