विष्णुदेवकी व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत कार्तिक की प्रतिपदा से प्रारम्भ करके एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • पंचगव्य से स्नान एवं उसका पान, बाण पुष्पों, चन्दन लेप एवं मधुर एवं पर्याप्त नैवेद्य से वासुदेव की पूजा करनी चाहिए।
  • एक मास तक हिंसा, असत्य, चौर्य, मांस एवं मधु का त्याग करना चाहिए।
  • विष्णु का अटल ध्यान, शास्त्र, यज्ञ या देवताओं की भर्त्सना न करना, मौन रूप से प्रतिदिन नैवेद्य ग्रहण करना चाहिए।
  • मार्गशीर्ष, पौष एवं माघ में भी यही विधि, केवल पुष्पों, धूप एवं नैवेद्य में अन्तर है।[1]
  • यह द्रष्टव्य है कि यह व्रत कृष्ण की माता देवकी को बताया गया था, जिसने उत्तम पुत्र की कामना की थी।
  • उसे वासुदेव के पूजन के लिए कहा गया। जो स्वयं उसके पुत्र थे।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 636-638, विष्णुधर्मोत्तरपुराण से उद्धरण)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विष्णुदेवकी_व्रत&oldid=140570" से लिया गया