वृन्ताक त्याग विधि  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • वृन्ताक त्याग विधि व्रत के द्वारा जीवन भर या एक वर्ष या 6 मासों तक या 3 मासों तक वृन्ताक फल का त्याग करना पड़ता है।
  • एक रात्रि भर भरणी या मघा नक्षत्र में उपवास करना होता है।
  • एक वेदी पर यम, काल, चित्रगुप्त, मृत्यु एवं प्रजापति का आवाहन किया जाता है और गंध आदि पूजा की जाती है।
  • तिल एवं घी से स्वाहा के साथ यम, नील, नीलकण्ठ, यमराज, चित्रगुप्त, वैवस्वत के लिए होम किया जाता है।
  • वृन्ताक त्याग विधि में 108 आहुतियाँ; सोने का बना एक वृन्ताक, काली गाय एक बैल, अँगूठियाँ, कर्णफूल, छ़त्र, चप्पल, काले वस्त्र का जोड़ा एवं काले कम्बल का दान देना चाहिए।
  • ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि जो वृन्ताक को जीवन भर छोड़ देता है वह विष्णुलोक जाता है।
  • जो ऐसा वर्षभर या केवल एक मास ही करता है, वह नरक में नहीं पड़ता है।
  • यह प्रकीर्णक व्रत है।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड2, 909-910, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वृन्ताक_त्याग_विधि&oldid=189276" से लिया गया