वृषभानु  

राधा रानी जी मन्दिर, बरसाना
  • राधा के पिता तथा ब्रज के एक प्रतिष्ठित गोप के रूप में प्रसिद्ध हैं।
  • वृषभानु की पुत्री होने के कारण राधा का नाम वृषभानु कुमारी पड़ा।
  • कृष्णभक्ति-काव्य में वृषभानु के चरित्र का गौण स्थान है।
  • कृष्णभक्ति के सभी सम्प्रदायों के काव्य में वृषभानु कुमारी के नाम के साथ ही वे जाने जाते रहे है।
  • राधावल्लभीय भक्त कवियों ने राधा की शैशव लीलाओं के प्रसंग में वृषभानु के राधा के प्रति वात्सल्य भाव का निरूपण किया है।
  • वल्लभ संप्रदाय की वात्सल्य उपासना पद्धति में जो स्थान नन्द का है, राधावल्लभ सम्प्रदाय में वही स्थान वृषभानु का कहा जा सकता है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वृषभानु&oldid=99385" से लिया गया