व्युत्पन्न मात्रक  

एक अथवा एक से अधिक मूल मात्रकों पर उपयुक्त घातें लगाकर प्राप्त किए गए मात्रकों को व्युत्पन्न मात्रक कहते हैं, अर्थात् व्युत्पन्न मात्रक मूल मात्रकों पर निर्भर करते हैं। कुछ व्युत्पन्न मात्रक निम्नलिखित हैं—

  • क्षेत्रफल = लम्बाई चौड़ाई

क्षेत्रफल का मात्रक = मीटर मीटर = मीटर2

  • आयतन = लम्बाई चौड़ाई ऊँचाई

आयतन का मात्रक = मीटर मीटर मीटर = मीटर3

घनत्व का मात्रक = किग्रा/मीटर3

  • वेग = विस्थापन/समय

वेग का मात्रक = मीटर/सेकेण्ड

चाल का मात्रक = मीटर/सेकेण्ड

त्वरण का मात्रक = मीटर/सेकेण्ड/सेकेण्ड = मीटर/सेकेण्ड2

  • बल = द्रव्यमान त्वरण

बल का मात्रक = किग्रा मीटर/सेकेण्ड2 = किग्रा–मीटर/सेकेण्ड2 = न्यूटन

कार्य का मात्रक = न्यूटन मीटर = किग्रा-मीटर2/सेकेण्ड2

कार्य के मात्रक को 'जूल' भी कहते हैं।

1 जूल = 1 न्यूटन मीटर

  • शक्ति = कार्य/समय

शक्ति का मात्रक = जूल/सेकेण्ड

शक्ति के मात्रक को 'वाट' भी कहते हैं।

1 वाट = 1 जूल/सेकेण्ड

  • संवेग = द्रव्यमान वेग

संवेग का मात्रक =किग्रा-मीटर/सेकेण्ड

  • गतिज ऊर्जा =1/2 द्रव्यमान वेग2

गतिज ऊर्जा का मात्रक = किग्रा-मीटर/सेकेण्ड

  • गुरुत्वीय स्थितिज ऊर्जा = द्रव्यमान गुरुत्वीय त्वरण दूरी

गुरुत्वीय स्थितिज ऊर्जा का मात्रक = किग्रा-मीटर2/सेकेण्ड2

विमाएं

भौतिक राशियों के व्युत्पन्न मात्रक निकालने के लिए मात्रकों पर जो घातें लगानी पड़ती हैं, उन्हें उस राशि की विमाएँ कहते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=व्युत्पन्न_मात्रक&oldid=223658" से लिया गया