शरभ (रामायण)  

शरभ भगवान श्री राम की वानर सेना में एक वीर योद्धा था।

  • इसके अधीन विहार नाम के सेनापति नियुक्त थे।
  • साथ ही इनके अधीन एक लाख चालीस हज़ार वानरों की सेना भी थी।[1]
  • जब कुम्भकर्ण ने युद्धभूमि में प्रवेश किया तो शरभ आदि कई योद्धाओं ने उसे रोकने की कोशिश की थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय मिथक कोश |लेखक: डॉ. उषा पुरी विद्यावाचस्पति |प्रकाशक: नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 305 |

  1. बा. रा., युद्ध कांड, 26|38-40

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शरभ_(रामायण)&oldid=251649" से लिया गया