शरावती नदी  

शरावती गुजरात राज्य की साबरमती नदी का ही प्राचीन नाम है।[1]

  • शरावती नदी ज़िला शिभोगा में स्थित अबंतीर्थ नामक स्थान से निस्सृत हुई है।
  • कहा जाता है कि यह सरिता श्रीराम के बाण मारने से प्रकट हुई थी।
  • प्रसिद्ध जोग प्रपात इसी नदी में है।
  • 'अमरकोश'[2] में शरावती नामोलेख है- ‘शरावती वेत्रवती चान्द्रभगं सरस्वती’।
  • महाभारत, भीष्मपर्व[3] में इसका पग्रोप्णी (ताप्ती), वेणा (पेन गंगा), भीमरथी (भीमा) और कावेरी के साथ वर्णन है- ‘शरावती सयोप्णीं च वेणां भीमरथीमपि, कावेरी चुलुकां दापि वाणी शतबलाभपि’।
  • शरावती का झरना जोग प्रपात या जेरुसोप्पा शिसोगा से 62 मील दूर है। इस जगप्रसिद्ध झरने की ऊंचाई 830 फुट है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 558, परिशिष्ट 'क' |
  2. अमरकोश 1,10,34
  3. भीष्मपर्व 9,20

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शरावती_नदी&oldid=629716" से लिया गया