शाकल शाखा  

  • शाकल ऋग्वेद की एक शाखा है। शाकल्य एक वैदिक ऋषि भी थे। उन्होंने ऋग्वेद के पदपाठ का प्रवर्तन किया, वाक्यों की सन्धियाँ तोड़कर पदों को अलग-अलग स्मरण करने की पद्धति चलायी।
  • पदमाठ में शब्दों के मूल की ठीक-ठीक विवेचना की रक्षा हुई।
  • शतपथ ब्राह्मण में शाकल्य का दूसरा नाम विदग्ध भी मिलता है।
  • विदेह के राजा जनक के यहाँ शाकल्य सभापण्डित और याज्ञवल्क्य के प्रतिद्वन्द्वी थे। ये कोसलक-विदेह थे। ऐसा जान पड़ता है कि ऋग्वेद के पद पाठ का कोसल-विदेह में विकास हुआ।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

श्रुतियाँ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शाकल_शाखा&oldid=286011" से लिया गया