शीतला व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • श्रावण कृष्ण पक्ष की सप्तमी पर कलश स्थापित कर उस पर शीतला की प्रतिमा का पूजन एवं पाठ वर्ष या उससे कम अवस्था की 7 कुमारियों को भोजन कराया जाता है।
  • इससे वैधव्य से मुक्ति, दरिद्रता का नाश होता है।
  • पुत्रोत्पत्ति आदि का लाभ होता है।[1]
  • कुछ लोग इसे श्रावण शुक्ल सप्तमी पर करते हैं।
  • यह केवल नारियों के लिए ही है।
  • नैवेद्य केवल घी एवं दही का ही होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. व्रतार्क (पाण्डुलिपि 111-113); अहल्याकामधेनु (पाण्डुलिपि 438बी-440बी)।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शीतला_व्रत&oldid=630982" से लिया गया