शैवसर्वस्वसार  

शैवसर्वस्वसार महाकवि विद्यापति द्वारा रचिक एक धर्म ग्रंथ हैं।

  • यह ग्रन्थ महाराज पद्मसिंह की पत्नी विश्वासदेवी की आज्ञा से रचा गया था।
  • महाकवि विद्यापति ठाकुर ने इस ग्रन्थ में भगवान शिव की पूजा से सम्बन्धित सभी विधि-विधानों का स्मा रीति से वर्णन किया है।
  • इस ग्रन्थ को शम्भुवाक्यावली भी कहा गया है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शैवसर्वस्वसार&oldid=312090" से लिया गया