श्रीवृक्ष नवमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • भाद्रपद शुक्ल पक्ष की नवमी पर यह व्रत किया जाता है।
  • सूर्योदय पर तिल, गेहूँ से बने पदार्थों आदि से बिल्व वृक्ष की सात बार पूजा की जाती है।
  • उससे प्रार्थना करना एवं उसे प्रणाम करना।
  • उस दिन बिना आग पर पके भोजन (यथा–दही, फल आदि) को भूमि पर रखकर खाना, तेल एवं नमक न खाना।
  • यह एक तिथिव्रत है।
  • लक्ष्मी का निवास बिल्व में होता है।
  • पीड़ा क्लेश से मुक्ति एवं धन की प्राप्ति का लाभ मिलता है।[1]

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 887-888, भविष्योत्तरपुराण 60|1-10 से उद्धरण)।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=श्रीवृक्ष_नवमी&oldid=338608" से लिया गया