सत्यवान  

Disamb2.jpg सत्यवान एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- सत्यवान (बहुविकल्पी)
संक्षिप्त परिचय
सत्यवान
सत्यवान और सावित्री
पिता राजा द्युमत्सेन
समय-काल पौराणिक
विवाह सावित्री
शासन-राज्य शाल्व
अन्य विवरण अल्पायु होने के कारण सत्यवान की मृत्यु हो गई, परंतु सावित्री ने अपने पातिव्रत्य धर्म के बल से यमराज को प्रसन्न करके पति को पुन: जीवित कर लिया। सत्यवान का नाम सावित्री के कारण ही प्रसिद्ध है।
संबंधित लेख सावित्री, यमराज, द्युमत्सेन, नारद
अन्य जानकारी सावित्री और सत्यवान की कथा सबसे पहले महाभारत के वनपर्व में मिलती है, जब युधिष्ठिर मारकण्डेय ऋषि से पूछते हैं कि क्या कभी कोई और स्त्री थी, जिसने द्रौपदी जितना भक्ति प्रदर्शित की?

सत्यवान शाल्व देश के राजा द्युमत्सेन के पुत्र थे। इनकी पत्नी सावित्री के पातिव्रत्य धर्म की कथा पुराणों में प्रसिद्ध है। इनके पिता अंधे होने के कारण राजगद्दी से उतार दिये गए थे। अत: परिवार सहित राजा द्युमत्सेन वन में निवास करते थे। मद्र देश के राजा अश्वपति ने अपनी पुत्री सावित्री का विवाह सत्यवान से कर दिया था। अल्पायु होने के कारण सत्यवान की मृत्यु हो गई, परंतु सावित्री ने अपने पातिव्रत्य धर्म के बल से यमराज को प्रसन्न करके पति को पुन: जीवित कर लिया। सत्यवान का नाम अपनी पत्नी सावित्री के कारण ही प्रसिद्ध हो गया। सावित्री की तपस्या से सत्यवान की आयु चार सौ वर्ष हो गई।[1] सावित्री और सत्यवान की कथा सबसे पहले महाभारत के वनपर्व में मिलती है, जब युधिष्ठिर मारकण्डेय ऋषि से पूछते हैं कि क्या कभी कोई और स्त्री थी, जिसने द्रौपदी जितना भक्ति प्रदर्शित की?

कथा

सावित्री का जन्म

पुराण वर्णित कथानुसार- मद्र देश के राजा का नाम अश्वपति था। उनके कोई भी सन्तान न थी, इसलिये उन्होंने सन्तान प्राप्ति के लिये सावित्री देवी की बड़ी उपासना की, जिसके फलस्वरूप उनकी एक अत्यन्त सुन्दर कन्या उत्पन्न हुई। सावित्री देवी की कृपा से उत्पन्न उस कन्या का नाम अश्वपति ने सावित्री ही रख दिया।[2]

विवाह हेतु सावित्री द्वारा सत्यवान का चुनाव

सावित्री की उम्र, रूप, गुण और लावण्य शुक्ल पक्ष के चन्द्रमा की तरह बढ़ना लगा और वह युवावस्था को प्राप्त हो गई। अब उसके पिता राजा अश्वेपति को उसके विवाह की चिन्ता होने लगी। एक दिन उन्होंने सावित्री को बुला कर कहा कि- "पुत्री! तुम अत्यन्त विदुषी हो, अतः अपने अनुरूप पति की खोज तुम स्वयं ही कर लो।" पिता की आज्ञा पाकर सावित्री एक वृद्ध तथा अत्यन्त बुद्धिमान मन्त्री को साथ लेकर पति की खोज हेतु देश-विदेश के पर्यटन के लिये निकल पड़ी। जब वह अपना पर्यटन कर वापस अपने घर लौटी तो उस समय सावित्री के पिता देवर्षि नारद के साथ भगवत्चर्चा कर रहे थे। सावित्री ने दोनों को प्रणाम किया और कहा कि- "हे पिता! आपकी आज्ञानुसार मैं पति का चुनाव करने के लिये अनेक देशों का पर्यटन कर वापस लौटी हूँ। शाल्व देश में द्युमत्सेन नाम से विख्यात एक बड़े ही धर्मात्मा राजा थे। किन्तु बाद में दैववश वे अन्धे हो गये। जब वे अन्धे हुये, उस समय उनके पुत्र की बाल्यावस्था थी। द्युमत्सेन के अनधत्व तथा उनके पुत्र के बाल्यपन का लाभ उठा कर उसके पड़ोसी राजा ने उनका राज्य छीन लिया। तब से वे अपनी पत्नी एवं पुत्र सत्यवान के साथ वन में चले आये और कठोर व्रतों का पालन करने लगे। उनके पुत्र सत्यवान अब युवा हो गये हैं, वे सर्वथा मेरे योग्य हैं, इसलिये उन्हीं को मैंने पतिरूप में चुना है।"

सत्यवान-सावित्री का विवाह

सावित्री की बातें सुनकर देवर्षि नारद बोले कि- "हे राजन! पति के रूप में सत्यवान का चुनाव करके सावित्री ने बड़ी भूल की है।" नारद जी के वचनों को सुनकर अश्ववपति चिन्तित होकर बोले- "हे देवर्षि! सत्यवान में ऐसे कौन से अवगुण हैं जो आप ऐसा कह रहे हैं?" इस पर नारद जी ने कहा कि- "राजन! सत्यवान तो वास्तव में सत्य का ही रूप है और समस्त गुणों का स्वामी है। किन्तु वह अल्पायु है और उसकी आयु केवल एक वर्ष ही शेष रह गई है। उसके बाद वह मृत्यु को प्राप्त हो जायेगा।" नारद की बातें सुनकर राजा अश्वपति ने सावित्री से कहा कि- "पुत्री! तुम नारद जी के वचनों को सत्य मान कर किसी दूसरे उत्तम गुणों वाले पुरुष को अपने पति के रूप में चुन लो।" इस पर सावित्री बोली कि- "हे तात! भारतीय नारी अपने जीवनकाल में केवल एक ही बार पति का वरण करती है। अब चाहे जो भी हो, मैं किसी दूसरे को अपने पति के रूप में स्वीकार नहीं कर सकती।" सावित्री की द‍ृढ़ता को देखकर देवर्षि नारद अत्यन्त प्रसन्न हुये और उनकी सलाह के अनुसार राजा अश्वपति ने सावित्री का विवाह सत्यवान के साथ कर दिया।[2]

सावित्री का सत्यवान के साथ वन में गमन

विवाह के पश्चात् सावित्री अपने राजसी वस्त्राभूषणों को त्यागकर तथा वल्कल धारण कर अपने पति एवं सास, श्वसुर के साथ वन में रहने लगी। पति तथा सास श्वसुर की सेवा ही उसका धर्म बन गया। किन्तु ज्यों-ज्यों समय व्यतीत होता जाता था, सावित्री के मन का भय बढ़ता जाता था। अन्त्ततः वह दिन भी आ गया, जिस दिन सत्यवान की मृत्यु निश्चित थी। उस दिन सावित्री ने द‍ृढ़ निश्चय कर लिया कि वह आज अपने पति को एक भी पल अकेला नहीं छोड़ेगी। जब सत्यवान लकड़ी काटने हेतु कंधे पर कुल्हाड़ी रखकर वन में जाने के लिये तैयार हुये तो सावित्री भी उसके साथ जाने के लिये तैयार हो गई। सत्यवान ने उसे बहुत समझाया कि वन का मार्ग अत्यन्त दुर्गम है और वहाँ जाने में तुम्हें बहुत कष्ट होगा, किन्तु सावित्री अपने निश्चय पर अडिग रही और अपने सास-श्वसुर से आज्ञा लेकर सत्यवान के साथ गहन वन में चली गई।

सत्यवान की मृत्यु

सत्यवान के प्राण हरने के लिए यमराज का आगमन

लकड़ी काटने के लिये सत्यवान एक वृक्ष पर जा चढ़े, किन्तु थोड़ी ही देर में वे अस्वस्थ होकर वृक्ष से उतर आये। उनकी अस्वस्थता और पीड़ा को ध्यान में रखकर सावित्री ने उन्हें वहीं वृक्ष के नीचे उनके सिर को अपनी जंघा पर रख कर लिटा लिया। लेटने के बाद सत्यवान अचेत हो गये। सावित्री समझ गई कि अब सत्यवान का अन्तिम समय आ गया है, इसलिये वह चुपचाप अश्रु बहाते हुये ईश्वर से प्रार्थना करने लगी। अकस्मात् सावित्री ने देखा कि एक कान्तिमय, कृष्णवर्ण, हृष्ट-पुष्ट, मुकुटधारी व्यक्ति उसके सामने खड़ा है। सावित्री ने उनसे पूछा कि- "हे देव! आप कौन हैं?" उन्होंने उत्तर दिया कि- "सावित्री! मैं यमराज हूँ और तुम्हारे पति को लेने आया हूँ।" सावत्री बोली- "हे प्रभो! सांसारिक प्राणियों को लेने के लिये तो आपके दूत आते हैं, किन्तु क्या कारण है कि आज आपको स्वयं आना पड़ा?" यमराज ने उत्तर दिया कि- "देवि! सत्यवान धर्मात्मा तथा गुणों का समुद्र है, मेरे दूत उन्हें ले जाने के योग्य नहीं हैं। इसीलिये मुझे स्वयं आना पड़ा है।" इतना कह कर यमराज ने बलपूर्वक सत्यवान के शरीर में से पाश में बँधा अंगुष्ठ मात्र परिमाण वाला जीव निकाला और दक्षिण दिशा की ओर चल पड़े।

यमराज द्वारा सावित्री को वरदान

सावित्री अपने पति को ले जाते हुये देखकर स्वयं भी यमराज के पीछे-पीछे चल पड़ी। कुछ दूर जाने के बाद जब यमराज ने सावित्री को अपने पीछे आते देखा तो कहा कि- "हे सवित्री! तू मेरे पीछे मत आ, क्योंकि तेरे पति की आयु पूर्ण हो चुकी है और वह अब तुझे वापस नहीं मिल सकता। अच्छा हो कि तू लौट कर अपने पति के मृत शरीर के अन्त्येष्टि की व्यवस्था कर। अब इस स्थान से आगे तू नहीं जा सकती।" सावित्री बोली कि- "हे प्रभो! भारतीय नारी होने के नाते पति का अनुगमन ही तो मेरा धर्म है और मैं इस स्थान से आगे तो क्या आपके पीछे आपके लोक तक भी जा सकती हूँ, क्योंकि मेरे पातिव्रत धर्म के बल से मेरी गति कहीं भी रुकने वाली नहीं है।" यमराज बोले कि- "सावित्री! मैं तेरे पातिव्रत धर्म से अत्यन्त प्रसन्न हूँ। इसलिये तू सत्यवान के जीवन को छोड़कर जो चाहे वह वरदान मुझसे माँग ले। इस पर सावित्री ने कहा कि- "प्रभु! मेरे श्वसुर नेत्रहीन हैं। आप कृपा करके उनके नेत्रों की ज्योति पुनः प्रदान कर दें। यमराज बोले कि- "ऐसा ही होगा, लेकिन अब तू वापस लौट जा।" सावित्री ने कहा कि- "भगवन! जहाँ मेरे प्राणनाथ होंगे, वहीं मेरा निश्चल आश्रम होगा। इसके सिवा मेरी एक बात और सुनिये। मुझे आज आप जैसे देवता के दर्शन हुये हैं और देव-दर्शन तथा संत-समागम कभी निष्फल नहीं जाते।" इस पर यमराज ने कहा कि- "देवि! तुमने जो कहा है, वह मुझे अत्यन्त प्रिय लगा है। अतः तू फिर सत्यवान के जीवन को छोड़कर एक वर माँग ले।"[2]

सावित्री बोली- "हे देव! मेरे श्वसुर राज्य-च्युत होकर वनवासी जीवन व्यतीत कर रहे हैं। मुझे यह वर दें कि उनका राज्य उन्हें वापस मिल जाये। यमराज बोले- "तथास्तु, अब तू लौट जा।" सावित्री ने फिर कहा कि- "हे प्रभो! सनातन धर्म के अनुसार मनुष्यों का धर्म है कि वह सब पर दया करे। सत्पुरुष तो अपने पास आये हुये शत्रुओं पर भी दया करते हैं।" यमराज बोले कि- "हे कल्याणी! तू नीति में अत्यन्त निपुण है और जैसे प्यासे मनुष्य को जल पीकर जो आनन्द प्राप्त होता है, तू वैसा ही आनन्द प्रदान करने वाले वचन कहती है। तेरी इस बात से प्रसन्न होकर मैं तुम्हें पुनः एक वर देना चाहता हूँ; किन्तु तू सत्यवान का जीवन वर के रूप में नहीं माँग सकती।" तब सावित्री ने कहा कि- "मेरे पिता राजा अश्वपति के कोई पुत्र नहीं है। अतः प्रभु! कृपा करके उन्हें पुत्र प्रदान करें।" यमराज बोले कि- "मैंने तुझे यह वर भी दिया, अब तू यहाँ से चली जा।" सावित्री ने फिर कहा कि- "हे यमदेव! मैं अपने पति को छोड़ कर एक क्षण भी जीवित नहीं रह सकूँगी। आप तो संत-हृदय हैं और सत्संग से सहृदयता में वृद्धि ही होती है। इसीलिये संतों से सब प्रेम करते हैं।" यमराज बोले कि- "कल्याणी तेरे वचनों को सुनकर मैं तुझे सत्यवान के जीवन को छोड़कर एक और अन्तिम वर देना चाहता हूँ, किन्तु इस वर के पश्चारत् तुम्हें वापस जाना होगा।" सावित्री ने कहा कि- "प्रभु यदि आप मुझसे इतने ही प्रसन्न हैं तो मेरे श्वसुर द्युमत्सेन के कुल की वृद्धि करने के लिये मुझे सौ पुत्र प्रदान करने की कृपा करें।" यमराज बोले कि- "ठीक है, यह वर भी मैंने तुझे दिया, अब तू यहाँ से चली जा।"

सत्यवान का पुर्नजीवित होना

किन्तु सावित्री यमराज के पीछे ही चलती रही। उसे अपने पीछे आता देख यमराज ने कहा कि- "सावित्री तू मेरा कहना मान कर वापस चली जा और सत्यवान के मृत शरीर के अन्तिम संस्कार की व्यवस्था कर।" इस पर सावित्री बोली कि- "हे प्रभु! आपने अभी ही मुझे सौ पुत्रों का वरदान दिया है, यदि मेरे पति का अन्तिम संस्कार हो गया तो मेरे पुत्र कैसे होंगे? और मेरे श्वसुर के कुल की वृद्धि कैसे हो पायेगी?" सावित्री के वचनों को सुनकर यमराज आश्चर्य में पड़ गये और अन्त में उन्होंने कहा कि- "सावित्री तू अत्यन्त विदुषी और चतुर है। तूने अपने वचनों से मुझे चक्कर में डाल दिया है। तू पतिव्रता है इसलिये जा, मैं सत्यवान को जीवनदान देता हूँ।" इतना कह कर यमराज वहाँ से अन्तर्धान हो गये और सावित्री वापस सत्यवान के शरीर के पास लौट आई। सावित्री के निकट आते ही सत्यवान की चेतना लौट आई।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

महाभारत शब्दकोश |लेखक: एस. पी. परमहंस |प्रकाशक: दिल्ली पुस्तक सदन, दिल्ली |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 112 |

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 510 |
  2. 2.0 2.1 2.2 2.3 सती सावित्री की कथा (हिंदी) blogs.oyepages.com। अभिगमन तिथि: 22 फरवरी, 2017।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सत्यवान&oldid=611632" से लिया गया